कैंसर रोगियों के लिए किस तरह कामगार है रेडिएशन थेरेपी

by Team Onco
646 views

रेडिएशन थेरेपी (जिसे विकिरण चिकित्सा भी कहा जाता है) एक कैंसर उपचार है जिसमें कैंसर कोशिकाओं को मारने और ट्यूमर को सिकोड़ने के लिए विकिरण की हाई डोज का उपयोग करता है। इसका लक्ष्य स्वस्थ कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाए बिना कैंसर को नष्ट या क्षति पहुंचाना है। लो डोज पर, आपके शरीर के अंदर देखने के लिए एक्स-रे में रेडियोथेरेपी (विकिरण) का उपयोग किया जाता है, जैसे आपके दांतों या टूटी हड्डियों के एक्स-रे के लिए किया जाता है। 

 हाई डोज पर रेडिएशन थेरेपी कैंसर कोशिकाओं को मार देती है या उनके डीएनए को नुकसान पहुंचाकर उनकी वृद्धि को धीमा कर देती है। कैंसर कोशिकाएं जिनका डीएनए क्षतिग्रस्त हो जाता है, वह विभाजित होना बंद कर देती है और मर जाती हैै। जब क्षतिग्रस्त कोशिकाएं मर जाती हैं, तो वे टूट जाती हैं और शरीर द्वारा हटा दी जाती हैं।

रेडिएशन थेरेपी कैंसर कोशिकाओं को तुरंत नहीं मारती है। कैंसर कोशिकाओं को मरने के लिए डीएनए को पर्याप्त रूप से क्षतिग्रस्त होने में कई दिन या सप्ताह लगते हैं। फिर, रेडिएशन थेरेपी समाप्त होने के बाद हफ्तों या महीनों तक कैंसर कोशिकाएं मरती रहती हैं। 

रेडिएशन थेरेपी क्यों की जाती है?

रेडिएशन थेरेपी कैंसर के इलाज के लिए एक महत्वपूर्ण इलाज है और इसका अक्सर अन्य उपचारों के साथ संयोजन में प्रयोग किया जाता है, जैसे कीमोथेरेपी या ट्यूमर हटाने के लिए सर्जरी।

रेडिएशन थेरेपी का स्वस्थ कोशिकाओं को घायल कर देती है, लेकिन यह क्षति स्थायी नहीं होती है। आपकी सामान्य, नॉन-कैंसर वाली कोशिकाओं में रेडिएशन थेरेपी से उबरने की क्षमता होती लक्ष्य ट्यूमर को सिकोड़ना और कैंसर कोशिकाओं को मारना होता है। यह थेरे है। शरीर पर रेडिएशन के प्रभाव को कम करने के लिए, रेडिएशन केवल आपके शरीर के विशिष्ट बिंदुओं पर लक्षित होता है।

रेडिएशन थेरेपी का उपयोग कैंसर के उपचार के विभिन्न चरणों के दौरान और विभिन्न परिणामों के लिए किया जा सकता है। विकिरण चिकित्सा का उपयोग किया जा सकता है:

  • एडवांस स्‍टेज, देर से चरण के कैंसर में लक्षणों को कम करने के लिए
  • कैंसर के प्राथमिक उपचार के रूप में
  • अन्य कैंसर उपचारों के साथ संयोजन में
  • सर्जरी से पहले ट्यूमर को सिकोड़ने के लिए
  • सर्जरी के बाद किसी भी शेष कैंसर कोशिकाओं को मारने के लिए
  • रेडिएशन थेरेपी के प्रकार

रेडिएशन थेरेपी के दो मुख्य प्रकार हैं, एक्सटर्नल बीम और इंटरनल बीम।

आपकी रेडिएशन थेरेपी का प्रकार कई कारकों पर निर्भर करता है, जिनमें निम्न शामिल हैं:

  • कैंसर का प्रकार
  • ट्यूमर का आकार
  • शरीर में ट्यूमर का स्थान
  • ट्यूमर सामान्य ऊतकों के कितने करीब होता है जो विकिरण के प्रति संवेदनशील होते हैं
  • आपका सामान्य स्वास्थ्य और चिकित्सा का इतिहास
  • यदि आपका अन्य प्रकार का कैंसर है
  • अन्य कारक, जैसे आपकी उम्र और अन्य चिकित्सीय स्थितियां

एक्सटर्नल बीम रेडिएशन थेरेपी

एक्सटर्नल बीम रेडिएशन थेरेपी एक ऐसी मशीन है जो आपके कैंसर पर रेडिएशन को लक्षित करती है। मशीन बड़ी होती है और इससे काफी शोर हो सकता है। यह आपको छूती नहीं है, लेकिन आपके चारों ओर घूमती है, जो आपके शरीर के एक हिस्से को कई दिशाओं से विकिरण भेजती है।

एक्सटर्नल बीम रेडिएशन थेरेपी एक लोकल उपचार है, जिसका मतलब है कि यह आपके शरीर के एक विशिष्ट हिस्से का इलाज करता है। उदाहरण के लिए, यदि आपके फेफड़ों में कैंसर है, तो आपके पास केवल आपकी छाती तक रेडिएशन होगी, आपके पूरे शरीर में नहीं।

इंटरनल रेडिएशन थेरेपी

इंटरनल रेडिएशन थेरेपी एक ऐसा उपचार है जिसमें आपके शरीर के अंदर रेडिएशन का एक स्रोत डाला जाता है। रेडिएशन स्रोत ठोस या तरल हो सकता है। 

एक ठोस स्रोत के साथ आंतरिक रेडिएशन थेरेपी को ब्रैकीथेरेपी कहा जाता है। इस प्रकार के उपचार में, बीज, रिबन या कैप्सूल जिनमें रेडिएशन स्रोत होता है, आपके शरीर में, ट्यूमर में या उसके पास रखा जाता है। एक्सटर्नल बीम रेडिएशन थेरेपी की तरह, ब्रैकीथेरेपी एक स्थानीय उपचार है और आपके शरीर के केवल एक विशिष्ट हिस्से का इलाज करता है। 

इंटरनल रेडिएशन थेरेपी एक ऐसा उपचार है जिसमें आपके शरीर के अंदर रेडिएशन का एक स्रोत डाला जाता है।

किस प्रकार के कैंसर का उपचार रेडिएशन से किया जाता है?

एक्सटर्नल बीम रेडिएशन थेरेपी का उपयोग कई प्रकार के कैंसर के इलाज के लिए किया जाता है। ब्रैकीथेरेपी का उपयोग अक्सर सिर और गर्दन, स्तन, गर्भाशय ग्रीवा, प्रोस्टेट और आंख के कैंसर के इलाज के लिए किया जाता है।

रेडियोधर्मी आयोडीनए या I-131 नामक एक प्रणालीगत विकिरण चिकित्सा का उपयोग अक्सर कुछ प्रकार के थायरॉयड कैंसर के इलाज के लिए किया जाता है।

एक अन्य प्रकार की सिस्‍टमेटिक रेडिएशन थेरेपी, जिसे टारगेट रेडियोन्यूक्लाइड थेरेपी कहा जाता है, का उपयोग कुछ ऐसे रोगियों के इलाज के लिए किया जाता है, जिन्हें एडवांस प्रोस्टेट कैंसर या गैस्ट्रोएंटेरोपेंक्रिएटिक न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर (GEP-NET)है। इस प्रकार के उपचार को मॉलीक्‍यूलर रेडियोथेरेपी भी कहा जा सकता है।

अन्य कैंसर उपचारों के साथ रेडिएशन का उपयोग कैसे किया जाता है?

कुछ लोगों के लिए, रेडिएशन ही एकमात्र उपचार हो सकता है जिसकी आपको आवश्यकता है। लेकिन, अक्सर, सर्जरी, कीमोथेरेपी और इम्यूनोथेरेपी जैसे अन्य कैंसर उपचारों के साथ रेडिएशन थेरेपी दी जाती है। रेडिएशन थेरेपी इन अन्य उपचारों के पहले, दौरान या बाद में दी जा सकती है ताकि उपचार के काम करने की संभावना में सुधार हो सके। रेडिएशन थेरेपी कब दी जाती है, यह इस बात पर निर्भर करता है कि किस प्रकार के कैंसर का इलाज किया जा रहा है और क्या रेडिएशन थेरेपी का लक्ष्य कैंसर का इलाज करना है या लक्षणों को कम करना है।

जब रेडिएशन थेरेपी को सर्जरी के साथ जोड़ा जाता है, तो इसमें:

सर्जरी से पहले, कैंसर के आकार को छोटा करने के लिए इसे सर्जरी द्वारा हटाया जा सकता है और इसके वापस आने की संभावना कम होती है।

सर्जरी के दौरान, ताकि यह त्वचा को नुकसान पहुंचाए बिना सीधे कैंसर में चला जाए। इस तरह से उपयोग की जाने वाली रेडिएशन थेरेपी को इंट्रोऑपरेटिव रेडिएशन कहा जाता है। 

इस तकनीक से डॉक्टर आस-पास के सामान्य ऊतकों को रेडिएशन से आसानी से बचा सकते हैं। सर्जरी के बाद जो भी कैंसर कोशिकाएं बची हैं उन्हें मारने के लिए।

रेडिएशन थेरेपी में कितना खर्च आ सकता है?

रेडिएशन थेरेपी महंगी हो सकती है। इसमें जटिल मशीनों का उपयोग किया जाता है और इसमें कई स्वास्थ्य देखभाल प्रदाताओं की सेवाएं शामिल हैं। आपकी विकिरण चिकित्सा की लागत, स्वास्थ्य देखभाल की लागत पर निर्भर करती है कि आप कहाँ रहते हैंए आपको किस प्रकार की रेडिएशन थेरेपी दी जा रही है, और आपको कितने उपचारों की आवश्यकता है। 

Related Posts

Leave a Comment

Here are frequently asked questions answered on coronavirus and its impact on cancer patients हिन्दी