बच्चों में होने वाले कैंसर के कुछ आम लक्षण (Signs and symptoms of cancer in children)

by Team Onco
306 views

बच्चों में विकसित होने वाले कैंसर के प्रकार वयस्कों में विकसित होने वाले कैंसर से अलग होते हैं। इनमें जीवनशैली या पर्यावरणीय जोखिम कारक कोई भूमिका नहीं निभाते हैं। यह आमतौर पर कोशिकाओं में डीएनए म्यूटेशन का परिणाम होता है। 

प्रमुख उपचार प्रगति के कारण, कैंसर से पीड़ित 80 प्रतिशत से अधिक बच्चे अब पाँच वर्ष या उससे अधिक जीवित रहते हैं। फिर भी, दुर्घटनाओं के बाद 15 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में मृत्यु का दूसरा प्रमुख कारण कैंसर है। 

बच्चों में होने वाले कैंसर

बच्चों में कैंसर (childhood cancer) को कभी-कभी पहचानना मुश्किल होता है क्योंकि आम बीमारियाँ या रोज़मर्रा की चोटें शुरुआती चेतावनी के संकेतों को छिपा सकती हैं। आइए, जानते हैं कुछ संकेतों के बारे में जिन्हें बच्चों में आपको नज़रअंदाज नहीं करना चाहिए।

कैंसर के लक्षण बचपन की अन्य बीमारियों के समान ही हो सकते हैं। याद रखें कि नीचे दी गई लक्षणों की लिस्ट, आमतौर पर कैंसर नहीं है। लेकिन, कैंसर होने पर कुछ इसी तरह के संकेत और लक्षण पैदा हो सकते हैं, इसलिए इन्हें नज़रअंदाज न करें:

  • यदि बच्चा पेशाब करने में असमर्थ हैं या उनके मूत में खून आ रहा है।
  • शरीर में कहीं भी एक अस्पष्ट गांठ या सूजन हो।
  • पेट में दर्द या सूजन जो ठीक नहीं हो रही हो।
  • पीठ या हड्डी का दर्द जो ठीक नहीं हो रहा हो या दर्द जो आपके बच्चे को रात में जगा देता है।
  • दौरे पड़ना (फिट) या उनके व्यवहार और मनोदशा में परिवर्तन होना।
  • सिरदर्द जो लंबे वक्त तक रहता है।
  • बार-बार या चोट या छोटे लाल या बैंगनी धब्बे के दाने जिन्हें समझाया नहीं जा सकता है।
  • असामान्य पीलापन होना।
  • हर समय थकान महसूस होना।
  • बार-बार संक्रमण या फ्लू जैसे लक्षण पैदा होना।
  • बिना कारण उल्टी (बीमार होना)।
  • तेज़ बुखार या पसीना आना।
  • सांस की कमी महसूस होना।
  • आंखों की दिखावट में बदलाव या तस्वीरों में आंखों का रिफ्लेक्शन।

बच्चों में विकसित होने वाले कैंसर के प्रकार

बच्चों में अक्सर होने वाले कैंसर के प्रकार वयस्कों में देखे जाने वाले कैंसर से भिन्न होते हैं। बच्चों के सबसे आम कैंसर हैं:

  • ल्यूकेमिया
  • ब्रेन और रीढ़ की हड्डी के ट्यूमर
  • न्यूरोब्लास्टोमा
  • विल्म्स ट्यूमर
  • लिंफोमा (हॉजकिन और गैर-हॉजकिन दोनों सहित)
  • रबडोमायोसरकोमा
  • रेटिनोब्लास्टोमा
  • हड्डी का कैंसर (ऑस्टियोसारकोमा और इविंग सारकोमा सहित) 

बच्चों में कैंसर की जांच

स्क्रीनिंग उन लोगों में कैंसर जैसी बीमारी के लिए परीक्षण है जिनमें कोई लक्षण नहीं है। बच्चों में कैंसर दुर्लभ हैं, और उन बच्चों में कैंसर की तलाश के लिए व्यापक रूप से अनुशंसित स्क्रीनिंग परीक्षण नहीं हैं जो जोखिम में नहीं हैं।

कुछ बच्चों में एक विशिष्ट प्रकार के कैंसर के विकसित होने की संभावना अधिक होती है क्योंकि कुछ जीन परिवर्तन उन्हें माता-पिता से विरासत में मिलते हैं। इन बच्चों को सावधानीपूर्वक, नियमित चिकित्सा जांच की आवश्यकता हो सकती है जिसमें कैंसर के शुरुआती लक्षणों को देखने के लिए विशेष परीक्षण शामिल हैं।

डॉक्टर को कब दिखाएं?

डॉक्टर बच्चे के मेडिकल इतिहास और लक्षणों के बारे में पूछेंगे और फिर आपके बच्चे की जांच करेंगे। यदि कैंसर लक्षणों का कारण हो सकता है, तो डॉक्टर इमेजिंग परीक्षण (जैसे एक्स-रे) या अन्य परीक्षण कराने के लिए कह सकता है। कभी-कभी यदि एक असामान्य गांठ या ट्यूमर पाया जाता है, तो डॉक्टर को कुछ या सभी को निकालने की आवश्यकता हो सकती है, ताकि इसे कैंसर कोशिकाओं के लिए माइक्रोस्कोप के नीचे देखा जा सके। इसे बायोप्सी के रूप में जाना जाता है।

Related Posts

Leave a Comment