स्तन कैंसर के दौर से जुड़े कुछ सवालों के जवाब 

by Team Onco
197 views

हम सीनियर रेडिएशन ऑन्कोलॉजिस्ट डॉ उपासना सक्सेना से जानेंगे, कि कैंसर के साथ रहने और उसका मुकाबला करने के पहलुओं से किस तरह से निपटा जाए। नीचे कुछ आम सवालों के जवाब दिए गए हैं, जो स्तन कैंसर के बारे में आपकी समझ को और बेहतर कर पाएंगे। 

स्तन कैंसर का इलाज शुरुआती चरणों में किया जा सकता है।

1- क्या स्तन कैंसर का इलाज संभव है?

हां, यह स्तन कैंसर का इलाज शुरुआती चरणों में किया जा सकता है। इसलिए वक्त पर इसकी पहचान करना सबसे ज्यादा जरूरी है। एडवांस स्टेज में, हम जीवित रहने की अवधि में सुधार कर सकते हैं लेकिन एक पूर्ण इलाज संभव नहीं हो सकता है। स्तन कैंसर में जागरूकता और शुरुआती जांच के लिए स्क्रीनिंग भी उतनी ही महत्वपूर्ण है जितना कि उपचार। यह हमें शुरुआती निदान (diagnosis) में मदद करता है, और प्रस्तुति में एक छोटा रोग आकार अपेक्षित उपचार परिणाम या रोग का निदान करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण भविष्यवक्ता (predictor) (बायोलॉजिकल सबटाइपिंग के साथ) है।  

2-  हाल में छपी एक खबर के अनुसार, भारत में हर साल स्तन कैंसर से पीड़ित महिलाओं में से आधी की मृत्यु हो जाती है। क्या यह इतना खतरनाक है?  

एडवांस स्टेज में, जान का खतरा निश्चित रूप से एक महत्वपूर्ण कारक है। ट्रीटमेंट के नए तरीके और वक्त पर इसकी पहचान से कैंसर में जानमाल के नुकसान में कमी आई है। बहरहाल, इस बीमारी में इतनी क्षमता है कि इससे किसी की जान जा सकती है। संदेह होने पर जल्दी और वक्त पर लिए गए फैसले से हम इसको उस स्टेज तक जाने से रोक सकते हैं, जहां पर यह हमारे लिए जानलेवा बन जाए।

3. स्तन कैंसर के लिए कीमोथेरेपी करते समय कौन-सी सावधानियां बरतनी चाहिए? 

1- संक्रमण के स्रोतों से बचें – कच्चा/आधा पका हुआ खाना, पालतू जानवर, भीड़-भाड़, घाव और खरोंच।

2- अपने भोजन के विकल्पों और स्वास्थ्य की स्थिति के हिसाब से डायटिशियन से मिलकर एक हेल्दी डाइट फॉलो करने की कोशिश करें।

3- अपने शरीर में किसी भी बदलाव या लक्षणों के प्रति सतर्क रहें।

4- समय-समय पर ब्लड टेस्ट के बारे में अपने चिकित्सक द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करें।

5- कीमोथेरेपी के लिए दी गई तारीखों को मिस न करें, क्योंकि इसमें दिया गया दो बार का अंतराल महत्व रखता है।

6- स्व-निदान या स्व-चिकित्सा न करें, कृपया ट्रीटमेंट करने वाले चिकित्सक से मिलें।

स्तन कैंसर में जागरूकता और शुरुआती जांच के लिए स्क्रीनिंग भी उतनी ही महत्वपूर्ण है

4- स्तन कैंसर के रोगियों की देखभाल करने वाले को आवश्यक रूप से ध्यान और सहायता प्रदान करने के मामले में आप उन्हें क्या सलाह देंगे?

  • नियमित रूप से भोजन परोसें, और उनके भोजन का सेवन बनाए रखें।
  • मरीज को भावनात्मक सहयोग दें।
  • उन्हें दूसरे कैंसर रोगियों से मिलाएं और उनसे बातचीत करने का मौका दें।
  • उनकी काउंसलिंग कराएं।
  • सर्जरी के बाद रोगी को मास्टेक्टॉमी ब्रा पहनाएं, क्योंकि इस प्रक्रिया के बाद उनको छाती में दर्द महसूस हो सकता है।
  • न्यूरोपैथी (तंत्रिका क्षति से कमजोरी, सुन्नता या दर्द) और लिम्फेडेमा (एक लसीका प्रणाली में ब्लॉकेज के कारण सूजन) के लिए उचित देखभाल करने की जरूरत है- यह दोनों हाथों या पैरों में हो सकती हैं।
  • यह समझने की जरूरत है कि मरीज को लाना ले जाना और इलाज में पैसा लगाना ही केयरटेकर का काम नहीं है, हालांकि यह भी जरूरी हैे। इस मुश्किल समय में एक मरीज का साथ देने के लिए आपके पास और भी कई तरीके हैं। केयर टेकर को अत्यधिक धैर्य रखने की आवश्यकता होती है, जो उनके खुद के लिए परेशानी का सबब बन जाती है। इसलिए, सही लोगों (रोगी नहीं, बल्कि अन्य दोस्तों और परिवार) से बात करने से कतराएं नहीं, उनसे बात करें कि आपके लिए उपलब्ध रहना और सब कुछ प्रदान करना कितना मुश्किल हैं। अपना ख्याल रखें, आपको काफी लंबा सफर तय करना है और आपकी जरूरत बहुत होने वाली है, जिसे आपको हिम्मत के साथ पार करने की आवश्यकता है। पश्चिम देशों में, इसी बात को लेकर रोगी के साथ-साथ पूरे परिवार को काउंसलिंग दी जाती है।
  1. स्तन कैंसर के उपचार के बाद स्वस्थ जीवन शैली को बनाए रखने और कैंसर के वापस से होने वाले खतरे से बचने के लिए क्या कदम उठाने चाहिए?

  • हार्मोन थेरेपी और इम्यूनोथेरेपी जैसी निर्धारित दवाइयों को लेना न छोड़े।
  • नियमित तौर पर व्यायाम करें।   
  • एक स्वस्थ वजन बनाए रखें, अपने आहार में आवश्यक घटक के रूप में फलों और सब्जियों को शामिल करें। 
  • रेड मीट का सेवन करने से बचें। 
  • नियमित तौर पर दिए गए निर्देशों का पालन करें और समय-समय पर जांच कराएं। 

6- स्तन कैंसर के इलाज से गुजर रहे मरीजों और परिवारों को आप क्या संदेश देना चाहेंगी?

  • कैंसर जाहिर तौर पर एक डरावना शब्द हैै, लेकिन ऐसा पुराने समय की वजह से है जब निदान में वक्त लगता था, कीमोथेरेपी कम प्रभावी होती थी और पुराने या कम प्रभावी  रेडियोथेरेपी तकनीकों का इस्तेमाल किया जाता था।
  • आज के वक्त में, बीमारी और इसके विभिन्न जैविक कारकों और यह कैसे फैलती है इसकी अच्छी समझ है।
  • आज हम एक बेहतर जगह पर खड़े हैं, जहां मरीज को ट्यूमर के बारे में अच्छे से समझा सकते हैं, उन्हें बता सकते हैं कि यह उनके शरीर को कैसे नुकसान पहुँचाएगा और इलाज के बाद आपकी स्थिति कैसी हो सकती है।
  • हालांकि, मैं यह नहीं कहती कि हर ब्रेस्ट कैंसर का रोगी पूरी तरह से ठीक हो जाता है, लेकिन इस बात में दो राय नहीं है कि कई लोग पूरी तरह ठीक होते भी हैं।  
  • अपने डॉक्टर से स्तन कैंसर के प्रकार और विवरण व उपचार के साथ रोग का निदान या अपेक्षित परिणाम के बारे में पूरी जानकारी लें।
  • एडवांस दवाओं और जैविक एजेंटों के साथ अब परिणामों में काफी सुधार हुआ है। यहां तक कि चौथे स्टेज या मेटास्टैटिक बीमारी (जैविक उप प्रकार के आधार पर) के लिए, पहले की तुलना में आजकल जीवित रहने की संभावना बढ़ गई हैं ।

 

Related Posts

Leave a Comment

Here are frequently asked questions answered on coronavirus and its impact on cancer patients हिन्दी