जानें प्रोस्टेट कैंसर के बारे में 4 मिथक

by Team Onco
123 views

प्रोस्टेट कैंसर भारत में पुरुषों में शीर्ष दस कैंसर में से एक है। भारत में इस कैंसर के मामले लगातार और तेजी से बढ़ रहे हैं। कैंसर से मुक्त रहने के लिए शुरुआती पहचान महत्वपूर्ण है, वहीं प्रोस्टेट कैंसर के बारे में कई गलत धारणाएं हैं। यहाँ प्रोस्टेट कैंसर के बारे में चार सामान्य मिथक और तथ्य हैं जो आपको अपने डॉक्टर से परामर्श लेने और स्क्रीनिंग को लेकर आवश्यक कदम उठाने में मदद कर सकते हैं।

मिथक #1ः यदि मेरे लक्षण नहीं हैं तो इसका मतलब है कि मुझे प्रोस्टेट कैंसर नहीं है

प्रोस्टेट कैंसर को घेरने वाली एक आम गलतफहमी यह है कि अगर कोई लक्षण का अनुभव नहीं कर रहा है तो उसे यह नहीं होगा। कई अन्य कैंसर की तरह, प्रारंभिक अवस्था में प्रोस्टेट कैंसर किसी भी लक्षण को पैदा नहीं करता है। प्रोस्टेट कैंसर आमतौर पर नियमित स्वास्थ्य जांच के दौरान पाया जाता है, अकेले लक्षणों से नहीं।

इसमें कुछ लक्षण, यदि मौजूद हैं, तो पेशाब करने में कठिनाई, बार-बार पेशाब आना, रात में बार-बार पेशाब करने का मन करना, पेशाब करते समय एक कमजोर प्रवाह और ऐसा महसूस होना कि आपका मूत्राशय ठीक से खाली नहीं हुआ है।

मिथक #2ः प्रोस्टेट कैंसर का कोई पारिवारिक इतिहास नहीं है, इसलिए मुझे लगता है कि चांस कम होंगे

परिवार का इतिहास और आनुवांशिकी प्रोस्टेट कैंसर के विकास की संभावना में भूमिका निभाते हैं। एक आदमी जिसके पिता या भाई को प्रोस्टेट कैंसर था, इस बीमारी के विकसित होने की संभावना दोगुनी है। यह जोखिम तब और बढ़ जाता है जब कैंसर का निदान परिवार के किसी सदस्य को कम उम्र (55 वर्ष से कम) में किया जाता है, या यदि यह तीन या अधिक परिवार के सदस्यों को प्रभावित करता है।

हालांकि, बिना परिवार के इतिहास वाले पुरुषों में, अन्य जोखिम कारक प्रोस्टेट कैंसर के विकास में योगदान कर सकते हैं जिनमें उम्र, जातीयता, सिगरेट धूम्रपान, मोटापा और अस्वास्थ्यकर आहार की आदतें शामिल हैं।

मिथक: 3ः पीएसए परीक्षण प्रोस्टेट कैंसर की पुष्टि करता है

पीएसए प्रोस्टेट कैंसर के लिए एक मूल्यवान मार्कर है। पीएसए प्रोस्टेट-विशिष्ट एंटीजन को संदर्भित करता है जो एक प्रकार का प्रोटीन है जो प्रोस्टेट ग्रंथि के उत्पादन में सामान्य और कैंसरग्रस्त दोनों प्रकार की कोशिकाएं हैं। यदि पीएसए स्तर 4.0 ng/mL के बराबर या उससे कम है, तो इसे सामान्य माना जाता है।

हालांकि कई लोगों का मानना है कि पीएसए परीक्षण प्रोस्टेट कैंसर के लिए एक पुष्टि करण परीक्षण है, निम्नलिखित पर ध्यान देना जरूरी हैः

ज्यादा उम्र वाले पुरुषों में आमतौर पर प्रोस्टेट कैंसर के बिना भी पीएसए का स्तर अधिक होता है।

पीएसए के स्तर में कई अन्य कारकों जैसे मोटापा, मूत्र संक्रमण, प्रोस्टेट सूजन और कुछ दवाओं के कारण उतार-चढ़ाव हो सकता है।

यदि एक आदमी का पीएसए स्तर 4 ng/mL से नीचे है, तो इसका मतलब यह नहीं है कि उसमें प्रोस्टेट कैंसर का विकास नहीं होेगा।

प्रोस्टेट कैंसर के निदान वाले कुछ पुरुषों में उच्च पीएसए स्तर नहीं देखा जाता है।

मिथक:4ः प्रोस्टेट कैंसर केवल बूढ़ों को प्रभावित करता है

प्रोस्टेट कैंसर को आमतौर पर एक बूढ़े व्यक्ति की बीमारी माना जाता है। हालांकि प्रोस्टेट कैंसर का खतरा उम्र के साथ बढ़ता है, 40 से 59 वर्ष की आयु में कम उम्र वाले पुरुषों में यह स्थिति देखी गई है। निदान के 35 प्रतिशत से अधिक मामले 65 वर्ष की आयु के पुरुषों में हैं। उम्र के अलावा, अन्य जोखिम कारक (जैसा कि ऊपर बताया गया है) प्रोस्टेट कैंसर के विकास में भी योगदान कर सकते हैं। 

प्रोस्टेट कैंसर के कारणों, जांच और उपचार के विकल्पों को अधिक समझने के लिए, आप यहाँ विस्तार से पढ़ सकते हैं। यदि आपको प्रोस्टेट कैंसर का पता चला है और आप उपचार के विकल्पों के बारे में और सलाह की तलाश में हैं, तो हमारे केयर मैनेजर और विशेषज्ञ ऑन्कोलॉजिस्ट की टीम यहां आपको गाइड करेंगे।

Related Posts

Leave a Comment

Here are frequently asked questions answered on coronavirus and its impact on cancer patients हिन्दी
Bitnami