आखिर क्यों कीमोथेरेपी के बाद गिरते हैं बाल ?

by Team Onco
93 views

कीमोथेरेपी कैंसर के लिए सबसे लोकप्रिय उपचार तरीकों में से एक है। हालांकि, कई रोगी इसके दुष्प्रभावों से काफी हद तक घबराए रहते हैं, विशेष रूप से – अधिकांश केमोथेरेपी रोगियों में अचानक बालों का झड़ना एक सबसे बडा दुष्प्रभाव है। इस ब्लाॅग में हम कीमोथेरेपी द्वारा बालों के झड़ने के कारणों के बारे में जानेंगे, साथ ही यह भी बताएंगे कि  उपचार के दौरान बालों की देखभाल के लिए क्या किया जा सकता है, और कीमोथेरेपी के बाद बालों के बढ़ने का पहलू क्या है।  

अधिकांश केमोथेरेपी रोगियों में अचानक बालों का झड़ना एक सबसे बडा दुष्प्रभाव है।

कीमोथेरेपी का उपयोग क्यों और कब किया जाता है?

कैंसर कोशिकाएं तीव्र गति से विभाजित करती हैं, और उनमें शरीर के अन्य हिस्सों में फैलने की प्रवृत्ति होती है, जो कि कैंसर की उत्पत्ति वाले के अंग से दूर है। क्योंकि कीमोथेरेपी को रक्त की नसों में डाल दिया जाता है, तो वो दवाइयाँ खून में मिलकर हर उस स्थान पर काम करती है जहां पर कैंसर विकसित हो रहा होता है जबकि सर्जरी और रेडियोथेरेपी मुख्यत: कैंसर के मूल उत्तक पर इस्तेमाल किए जा सकते हैं।

ऐसा करने से, कीमोथेरेपी में निम्नलिखित रूप में मदद करती हैः 

कैंसर का इलाज करने में 

कीमोथेरेपी दवाएँ कैंसर कोशिकाओं को मारने में मदद करती हैं और कई मामलों जैसे कि ब्लड कैंसर में, यह कैंसर को पूरी तरह से ठीक करने में मदद करती हैं।

एडजुवेंट कीमोथेरेपी के रूप में 

यह छिपे हुए कैंसर कोशिकाओं को हटाने में मददगार है, जो सर्जरी जैसे अन्य मुख्यतरू उपचारों के बाद भी रह सकते हैं।

नियोएडजुवेंट थेरेपी के रूप में

कीमोथेरेपी का उपयोग ट्यूमर के आकार को कम करने के लिए किया जा सकता है, ताकि विकिरण या सर्जरी जैसे अन्य उपचार संभव हो सके।

गंजापन (बालों का झड़ना) या कीमोथेरेपी के सबसे अधिक दिखाई देने वाले दुष्प्रभावों में से एक है।

कीमोथेरेपी के दौरान बाल क्यों गिरते हैं?

गंजापन (बालों का झड़ना) या कीमोथेरेपी के सबसे अधिक दिखाई देने वाले दुष्प्रभावों में से एक है। यह समझने के लिए कि कीमोथेरेपी बालों के झड़ने का कारण क्यों बनती है, हमें यह समझने की आवश्यकता है कि कीमोथेरेपी कैसे काम करती है। नियमित कीमोथेरेपी (साइटोटोक्सिक कीमोथेरेपी) कैंसर कोशिकाओं को मारने के लिए गैर-लक्षित दवाओं का उपयोग करती है। कैंसर कोशिकाओं को तेजी से विभाजित करने की उनकी क्षमता से पहचाना जाता है। साइटोटॉक्सिक ड्रग्स (कीमोथेरेपी में प्रयुक्त) मूल रूप से वह ड्रग्स हैं जो इन तेजी से विभाजित होने वाली कोशिकाओं को जल्दी से नष्ट करने या उनके विकास में देरी करने का लक्ष्य रखते हैं। इस प्रक्रिया में, वे अन्य स्वस्थ कोशिकाओं को भी मारते हैं जो तेजी से विभाजित होती हैं। इसमें हमारे बालों बालों की जड़ों  पर काफी कम समय में ही तेजी से हमला होता है, इससे बाल झड़ने लगते हैं।

सभी कीमोथेरेपी के रोगी बाल क्यों नहीं खोते हैं? 

सभी कीमोथेरेपी दवाएं तेजी से बालों के झड़ने का कारण नहीं बनती हैं। अलग-अलग दवा प्रकारों के लिए बालों के झड़ने की डिग्री अलग है। उदाहरण के लिए, स्तन कैंसर की दवाओं को सबसे अधिक बालों के झड़ने के लिए जाना जाता है। प्रत्येक कीमोथेरेपी उपचार कैंसर दवाओं के एक विशिष्ट मिश्रण का उपयोग करता है, यही वजह है कि सभी कीमोथेरेपी रोगियों को आक्रामक हेयरफॉल का अनुभव नहीं होता है। नाममात्र साइड इफेक्ट्स (जैसे कि बालों का पतला होना, या आंशिक रूप से गंजा होना) अभी भी ज्यादातर रोगियों में देखा जाता है, जिसके परिणामस्वरूप बालों के रोमों पर हमला होता है।

कीमोथेरेपी के दौरान बालों की देखभाल कैसे करें?

कीमोथेरेपी के दौरान बालों की काफी सहज देखभाल करने की राय दी जाती है। यह सिफारिश की जाती है कि रोगी अपने बाल बहुत बार न धोएं, और जब बाल धोते हैं, तो उन्हें हल्के शैम्पू का उपयोग करने की सलाह दी जाती है। यदि आप हेयर ड्रायर का उपयोग करते हैं, तो इसका उपयोग हमेशा न्यूनतम तापमान में इसका इस्तेमाल करें। कीमोथेरेपी लेने वाले मरीजों को हेयर डाई कलर का इस्तेमाल न करने की सलाह दी जाती है। मरीजों को इस दौरान अपने बालों पर कलर या हार्ड ब्रश का इस्तेमाल करने से भी बचना चाहिए।

इसके अलावा, कीमोथेरेपी के दौरान बालों के लिए स्वास्थ्य संतुलित आहार की आदतें अपनाना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है।

कीमोथेरेपी के दौरान बालों का कोई भी नुकसान स्थायी नहीं होता है

कीमोथेरेपी के दौरान बाल कब गिरने लगते हैं?

आमतौर पर, कीमोथेरेपी के मरीज अपने उपचार के पहले 2-3 हफ्तों में बाल खोना शुरू कर देते हैं। कुछ रोगी धीरे-धीरे बालों को खोते हैं, और कुछ मामलों में परिवर्तन अधिक डरावना होता है – जहां वे बड़ी मात्रा में बाल खो देते हैं, जब तक अधिकांश लोग कीमोथेरेपी के अपने दूसरी साइकल प्राप्त करते हैं, तब तक वे लगभग पूरी तरह से गंजे हो जाते हैं। 

क्या कीमोथेरेपी के बाद गिरे बाल वापस उग सकते हैं?

हाँ, कीमोथेरेपी के दौरान बालों का कोई भी नुकसान स्थायी नहीं होता है, और यह दुष्प्रभाव कभी भी उन लोगों के लिए निवारक के रूप में काम नहीं करना चाहिए जिन्हें कीमोथेरेपी से गुजरने की सलाह दी गई है।

तोे अगर, अगली बार कीमोथेरेपी के बारे में विचार करने या प्राप्त करने वाले कोई भी आपके दोस्त या परिवार के सदस्य बालों को खोने के बारे में चिंतित हो तो, उन्हें सही भावनात्मक अंतर्दृष्टि दें और उन्हें बताएं कि बालों के झड़ना एकाएक अस्थायी पहलू है, और इसलिए उन्हें कैंसर का सही उपचार प्राप्त करना चाहिए।

Related Posts

Leave a Comment

Here are frequently asked questions answered on coronavirus and its impact on cancer patients हिन्दी
Bitnami