कैंसर उपचार के दुष्प्रभाव से निपटने में ये टिप्स आएंगे काम 

by Team Onco
508 views

कैंसर सबसे घातक रोग है, यह कोशिकाओं की असामान्य वृद्धि के कारण होता है। लगभग 100 प्रकार के कैंसर होते हैं जिनमें फेफड़े का कैंसर, स्तन कैंसर, पेट का कैंसर, त्वचा कैंसर, अग्नाशय का कैंसर आदि शामिल हैं। हालाँकि, लक्षण एक दूसरे से अलग होते हैं। कैंसर के उपचार में सर्जरी, कीमोथेरेपी या रेडिएशन शामिल हो सकते हैं। कैंसर के लिए सबसे प्रभावी उपचार कीमोथेरेपी है जिसमें शामिल हैं कीमोथेराप्यूटिक एजेंट जैसे साइटोटोक्सिक एंटी-नियोप्लास्टिक दवाएं। कीमोथेरेपी का मुख्य उद्देश्य कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करना होता है। यह एक बार में एक या कई दवाओं का उपयोग की मदद से पूरी की जाती है। कीमोथेरेपी की डोज़ होती है जो रोज़, साप्ताहिक या मासिक आधार पर दी जाती है।

कीमोथेरेपी और रेडिएशन जैसे कैंसर उपचार आपके जीवन को बचा सकते हैं। लेकिन, वे जब दुष्प्रभाव भी पैदा करते हैं जो हल्के (शुष्क मुंह) से लेकर गंभीर (उल्टी) तक होते हैं। यदि आप दवा लेने से और बीमार हो रहे हैं, तो आप अपने लक्षणों को कम करने के लिए घरेलू उपचार की मदद ले सकते हैं।

ये सिर्फ जड़ी-बूटियाँ और विटामिन नहीं हैं। इनमें मालिश, एक्यूपंक्चर (एक उपचार जिसमें छोटी सुइयां आपकी त्वचा को चुभाई जाती हैं), और बहुत कुछ शामिल हो सकते हैं।

कुछ तरीके कैंसर के इलाज के दुष्प्रभावों को कम कर सकते हैं। अन्य आपके उपचार में हस्तक्षेप कर सकते हैं। अगर आपको लगता है कि आप उन्हें आजमाना चाहते हैं, तो हमेशा पहले अपने डॉक्टर से बात ज़रूर करें।

यहां कुछ विकल्प दिए गए हैं, जिनका सेवन आप डाॅक्टर की सलाह के बाद कर सकते हैं। 

अदरक कीमोथेरेपी से होने वाली मतली और उल्टी को प्रबंधित करने में आपकी मदद कर सकती है। लेकिन, यह आपके खून को पतला भी कर सकती है, इसलिए सर्जरी से पहले इसे न लें।

जिंक स्वाद में बदलाव, रेडिएशन के दुष्प्रभाव, कीमोथेरेपी और कुछ दर्द निवारक दवाओं को रोकने में मदद कर सकता है।

यदि आपको कोलोरेक्टल कैंसर है, तो एस्ट्रैगलस कीमोथेरेपी के दुष्प्रभावों को कम कर सकता है, जैसे कि मतली और उल्टी। लेकिन, यह कुछ दवाओं को काम करने से भी रोकता है जैसे उन्हें करना चाहिए।

ग्लूटामाइन उपचार से कम से कम दो दुष्प्रभावों को कम करने में मदद कर सकता हैः परिपरल न्यूरोपैथी (कमजोरी, सुन्नता, या आपके हाथों और पैरों में दर्द) और मुंह के छाले और खराश। लेकिन, इस पर और अध्ययन की जरूरत है।

अमेजॅन बेसिन के मूल पौधे में पाए जाने वाले प्राकृतिक उत्तेजक ग्वाराना को कीमोथेरेपी से संबंधित थकान में मदद करने के लिए भी पाया गया है, खासकर स्तन कैंसर के रोगियों में।

एक्यूपंक्चर

एक्यूपंक्चर में सुई आपके शरीर के प्राकृतिक दर्द निवारक रसायनों को उत्तेजित करती है।

एक्यूपंक्चर

पारंपरिक चीनी चिकित्सा के रूप में आपके शरीर के ऊर्जा प्रवाह को बेहतर बनाने के लिए आपकी त्वचा में बहुत पतली सुइयां डालना शामिल है। कुछ पश्चिमी लोगों का मानना है कि सुई आपके शरीर के प्राकृतिक दर्द निवारक रसायनों को उत्तेजित करती है। एक्यूपंक्चर का उपयोग अक्सर दर्द के लिए किया जाता है, लेकिन यह कैंसर के उपचार से जुड़े अन्य लक्षणों को भी कम कर सकता है, जैसेः

  • मतली और उल्टी
  • शुष्क मुँह
  • घबराहट 

अगर आप इसे आजमाना चाहते हैं, तो अपने डॉक्टर से बात ज़रूर करें। वे आपको बता सकते हैं कि क्या यह आपके स्वास्थ्य के आधार पर ये सही कदम है या नहीं। वे आपको किसी ऐसे एक्यूपंक्चर चिकित्सक के पास भी भेज सकते हैं, जिसे कैंसर से पीड़ित लोगों के साथ काम करने के लिए प्रशिक्षित किया गया हो।

प्राकृतिक राहत पाने के अन्य तरीके

कैंसर के उपचार घबराहट, तनाव, दर्द, मतली और उल्टी आम हैं। एक शोध से पता चलता है कि ये दवा मुक्त तरीके मदद कर सकते हैं।

मालिश

मालिश

1,290 कैंसर रोगियों के एक अध्ययन में पाया गया कि मालिश करने वालों में दर्द, घबराहट, थकान और मतली की समस्या पर काफी फर्क पड़ता है।

हिप्नोसिस

हिप्नोसिस थेरेपी

इसमें एक प्रशिक्षित चिकित्सक आपको गहरी एकाग्रता की स्थिति में डाल देगा जो आपको अपने लक्षणों के अलावा अन्य चीजों पर ध्यान केंद्रित करने में मदद करता है। यह घबराहट, दर्द, तनाव और यहां तक कि मतली को भी कम कर सकता है।

गाइडेड इमेजरी

गाइडेड इमेजरी

आप किसी ऐसी चीज या जगह के बारे में सोचेंगे जो आपको खुश करती है। यह आपको आराम करने में मदद कर सकता है। एक अध्ययन में पाया गया कि यह स्तन कैंसर से पीड़ित महिलाओं के जीवन की गुणवत्ता में सुधार करता है।

अरोमा थेरेपी

अरोमा थेरेपी

इस थेरेपी में आप एक कमरे को सुगंधित बनाने के लिए सुगंधित तेलों को गर्म करते हैं, उन्हें अपने नहाने के पानी में मिलाते हैं, या मालिश में उनका इस्तेमाल करते हैं। यह तकनीक मतली, दर्द और तनाव को कम करने में मदद कर सकती है।

Related Posts

Leave a Comment