फेफड़े के कैंसर के उपचार में मददगार हैं ये फूड

by Team Onco
204 views

क्या आपका भोजन वास्तव में आपके कैंसर के उपचार में बड़ा प्रभाव डाल सकता है? इसका जवाब हां ही होगा। कुछ खाद्य पदार्थ कैंसर कोशिकाओं के विकास और विभाजन में हस्तक्षेप करते हैं, जबकि कुछ अन्य खाद्य पदार्थ हमारे इम्यून सिस्टम (प्रतिरक्षा प्रणाली) को कैंसर से लड़ने में मदद करते हैं।

किसी भी तरह से भोजन कैंसर के उपचार की जगह तो नहीं ले सकता है, लेकिन यह आपकी चिकित्सा टीम के काम को यह सुनिश्चित करने में सहायता कर सकता है कि आप तेजी से ठीक हो जाएं। 

फेफड़े के कैंसर से लड़ने वाले खाद्य पदार्थ?

आइए उन पांच खाद्य पदार्थों के बारे में जानते हैं, जिन्हें आपको अपने आहार में शामिल करना चाहिए और क्यों।

फलोरेटिन एक पदार्थ है जो सेब और नाशपाती जैसे फलों में पाया जाता है।

सेब और नाशपाती

सेब और नाशपाती

फलोरेटिन एक पदार्थ है जो सेब और नाशपाती जैसे फलों में पाया जाता है। हाल के अध्ययनों में, फलोरेटिन को फेफड़ों में गैर-छोटी कोशिकाओं कैंसर की कोशिकाओं में मृत्यु का कारण पाया गया था। इन्हें अच्छी तरह से धोने के बाद इनका सेवन करना सबसे अच्छा है।

ग्रीन टी में थिएफ्लेविन और ईजीसीजी जैसे पदार्थ मौजूद होते हैं, जो सिस्प्लैटिन की प्रभावशीलता को कम करने के लिए पाए जाते हैं, व आमतौर पर फेफड़ों के कैंसर के लिए कीमोथेरेपी में उपयोग किया जाता है।

ग्रीन टी

ग्रीन टी

ग्रीन टी में थिएफ्लेविन और ईजीसीजी जैसे पदार्थ मौजूद होते हैं, जो सिस्प्लैटिन की प्रभावशीलता को कम करने के लिए पाए जाते हैं, व आमतौर पर फेफड़ों के कैंसर के लिए कीमोथेरेपी में उपयोग किया जाता है। इसका मतलब यह हो सकता है कि ग्रीन टी आपकी कीमोथेरेपी में मदद कर सकती है।

सावधानः कैफीन रहित ग्रीन टी की किस्मों को देखें, क्योंकि कैफीन आपको ऐसे समय में जगा सकती है जब आपके शरीर को आराम की सबसे ज्यादा जरूरत हैै।

अदरक में यह यौगिक होता है और यह कैंसर को फैलने से रोकने में मदद करता है।

अदरक

अदरक

आपने शायद सुना होगा कि अदरक कीमो से होने वाली मतली की समस्या को कम करने में मदद करता है। लेकिन इसका फायदा इससे कहीं आगे तक होता है। चूहों पर आधारित एक अध्ययन में, यह पाया गया कि 6-शोगोल नामक एक यौगिक अन्य अंगों में कैंसर की गति को रोकता है। अदरक में यह यौगिक होता है और यह कैंसर को फैलने से रोकने में मदद करता है। अदरक का सेवन ज्यादातर भारतीय व्यंजनों में किया जा सकता है, खासकर चटनी के रूप में और चाय में डालकर। 

फ्लैक्स सीड्स चूहों के फेफड़ों के ट्यूमर के विकास को धीमा कर देते हैं और रोग को बढने के साथ -साथ अधिक एडवांस चरणों में जाने से भी रोकते हैं।

फ्लैक्स सीड्स

अलसी के बीज (फ्लैक्स सीड्स)

अध्ययनों से पता चला है कि फ्लैक्स सीड्स चूहों के फेफड़ों के ट्यूमर के विकास को धीमा कर देते हैं और रोग को बढने के साथ -साथ अधिक एडवांस चरणों में जाने से भी रोकते हैं। फ्लैक्स सीड्स को हिंदी में अलसी कहा जाता है और यह बहुत लंबे समय तक भारतीय व्यंजनों का हिस्सा रहा है। आप रोजाना इसका दो चम्मच सेवन कर सकते हैं, या उन्हें रायता (दही) या खाकरा जैसी रेसिपी में इस्तेमाल कर सकते हैं।

फेफड़ों के कैंसर के लिए जामुन के कई फायदे हैं।

जामुन

जामुन

फेफड़ों के कैंसर के लिए जामुन के कई फायदे हैं। अध्ययन से पता चलता है कि डेल्फिनिडिन (जामुन में मौजूद) ट्यूमर को नई रक्त वाहिकाओं को विकसित करने से रोकता है, जिससे उसका विकास धीमा हो जाता है। इसके अतिरिक्त, फेफड़ों के कैंसर के 15 प्रतिशत रोगियों में रक्त के थक्के विकसित होते हैं। डेल्फिनिडिन इसे रोकता है और रोगी के समग्र स्वास्थ्य और जीवन की गुणवत्ता में सुधार करता है। भारत में आंवला, स्टार बेरी (हरफरी) और स्क्वैश बेरी (फालसा) आसानी से उपलब्ध हैं और सस्ते भी हैं। अच्छे परिणामों के लिए इन्हें कच्चा खाएं।

खाद्य पदार्थ जिनका सेवन सीमित करें: 

नमक 

नमक का सेवन प्रतिदिन 5 ग्राम से कम करें।

मांस

हर हफ्ते 300 ग्राम से कम मांस का सेवन करें। विशेष रूप से लाल मांस का सेवन करने से बचें।

तंबाकू

तंबाकू से पूरी तरह से बंद करें यदि आप करते हैं तो, इसका धुआं और इसे चबाना दोनों ही आपके कैंसर के उपचार में परेशानी का कारण बन सकता है।

शराब

शराब से परहेज करें, विशेष रूप से पुरुषों को शराब और महिलाओं को बियर से दूरी बनाना जरूरी है। 

 

बीटा कैरोटीन और फेफड़ों का कैंसर

बीटा कैरोटीन को पूरक (supplement) के रूप में कई लोगों द्वारा लिया जाता है, क्योंकि यह विटामिन ए में परिवर्तित होता है, जो हमारे शरीर के लिए एक महत्वपूर्ण पोषक तत्व है। हालांकि, धूम्रपान करने वालों में, बीटा कैरोटीन से फेफड़ों के कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। धूम्रपान न करने वालों या पहले जो धूम्रपान करते थे उन लोगों में इसका प्रभाव नहीं होता है। बीटा कैरोटीन अन्य कैंसर जैसे प्रोस्टेट और गैर-मेलेनोमा त्वचा कैंसर के लिए विपरीत प्रभाव डालते हैं।

सूक्ष्म पोषक तत्व और फेफड़ों का कैंसर

सूक्ष्म पोषक तत्व विटामिन और खनिजों को संदर्भित करते हैं। वे ऊर्जा उत्पादन, शरीर के विकास और कामकाज के लिए आवश्यक हैं। हालांकि, धूम्रपान करने वालों में, जस्ता, लोहा और कैल्शियम जैसे सूक्ष्म पोषक तत्व फेफड़ों के कैंसर के खतरे को बढ़ाते हैं। इन सूक्ष्म पोषक तत्वों के आहार सेवन के साथ-साथ पूरक के रूप में भी सच है। यह केवल धूम्रपान करने वालों पर लागू होता है।

तो, फेफड़े के कैंसर के रोगी के लिए सबसे अच्छा आहार क्या है?

फेफड़े के कैंसर के रोगी के लिए सबसे अच्छा आहार वह है जिसे मेडिटरेनीयन आहार कहा जाता है क्योंकि इसका सेवन ज्यादातर उस क्षेत्र के देशों में किया जाता है, जैसे ग्रीस और इटली। आइए इस आहार के प्रमुख घटकों पर नजर डालें और जानें कि यह कैसे कैंसर में आपकी मदद करेंगे।

विभिन्न रंगों की सब्जियों पर एक मेडिटरेनीयन आहार भारी होता है।

हरी सब्जियाँ

सब्जियां

विभिन्न रंगों की सब्जियों पर एक मेडिटरेनीयन आहार भारी होता है। आमतौर पर इसमें हर भोजन के साथ एक सलाद होता है और सब्जियां बिना पकी और ताजा होती हैं। इससे उनका पोषण सुरक्षित रहता है।

जड़ी बूटी और ड्राईफ्रूटस

अधिकांश व्यंजनों में स्वाद बढ़ाने वाले तत्व वो होते हैं, जो घर में उगाए जाते हैं जैसे कि कपूर का पत्ता (sage), अजवायन के फूल (thyme), रोजमैरी (rosemary) और अजमोद (parsley) हैं। इससे कृत्रिम और स्टोर किए जाने वाले फ्लेवर पर निर्भर नहीं रहना पड़ता, जिनमें हानिकारक और रसायन हो सकते हैं। ड्राईफ्रूटस का उपयोग सलाद, ब्रेड, स्प्रेड और मांस के व्यंजनों में किया जाता है, यह महत्वपूर्ण पोषण मूल्यों को जोड़ते हैं।

जैतून का तेल और समुद्री खाद्य पदार्थों जैसे मैकेरल, सालमन और सार्डिन जैसे वसा ओमेगा -3 फैटी एसिड से भरपूर होते हैं।

ओमेगा -3

स्वस्थ वसा

जैतून का तेल और समुद्री खाद्य पदार्थों जैसे मैकेरल, सालमन और सार्डिन जैसे वसा ओमेगा -3 फैटी एसिड से भरपूर होते हैं। ओमेगा -3 फैटी एसिड सूजन को कम करते हैं, हृदय रोगों और रक्त के थक्के के जोखिम को कम करते हैं। 

छोले, बीन्स, जई और साबुत गेहूं रोजाना मेडिटरेनीयन डाइट में परोसे जाने वाले पदार्थ हैं। अधिकांश भोजन बड़े पैमाने पर पोल्ट्री और डेयरी उत्पादों की कम मात्रा के साथ संयंत्र-आधारित होते हैं।

साबुत अनाज

बीन्स और साबुत अनाज 

छोले, बीन्स, जई और साबुत गेहूं रोजाना मेडिटरेनीयन डाइट में परोसे जाने वाले पदार्थ हैं। अधिकांश भोजन बड़े पैमाने पर पोल्ट्री और डेयरी उत्पादों की कम मात्रा के साथ संयंत्र-आधारित होते हैं। इसमें लाल मीट का सेवन कम ही किया जाता है।

अध्ययनों से यह भी पता चलता है कि एक मेडिटरेनीयन भोजन में परोसे जाने वाली वास्तविक सामग्री के अलावा, इसे बनाने और सेवन का तरीका भी है और इसका सेवन किया जाता है। सब्जियों और फलों को उनके मूल स्वाद, रंग और पोषक तत्वों को बनाए रखने के लिए संयम से पकाया जाता है। 

भोजन अधिक इत्मीनान से खाया जाता है, आमतौर पर परिवार के अन्य सदस्यों के साथ या दोस्तों के साथ। इसलिए, पोषण प्रदान करने के अलावा, भोजन का समय भी विश्राम और आनंद प्रदान करता है, जिससे मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य दोनों में सुधार होता है।

Related Posts

Leave a Comment

Here are frequently asked questions answered on coronavirus and its impact on cancer patients हिन्दी
Bitnami