नॉन-स्मॉल सेल और स्मॉल सेल लंग कैंसर के बीच अंतर

by Team Onco
1363 views

फेफड़े श्वसन प्रणाली का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है और डायाफ्राम (Diaphragm) के ऊपर और रिब केज (Rib Cage) के पीछे होता है। ये स्पंजी दो अंग एक ही आकार के नहीं होते हैं, दाएं फेफड़े को तीन खंडों में विभाजित किया जाता है, जिन्हें लोब (Lobes) कहा जाता है। वहीं, बाएं फेफड़े में दो खंड और लोब होते हैं। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि हमारा दिल छाती के बाईं ओर होता है, बाएं फेफड़े का आकार छोटा होता है। 

हमारे फेफड़े के अंदर का भाग

जब हम अपने मुंह या नाक से सांस लेते हैं, तो श्वासनली (विंडपाइप) के माध्यम से हवा हमारे फेफड़ों में प्रवेश करती है। श्वासनली ब्रोंची (bronchi) नामक छोटी नलियों में निकलती है जो आगे फेफड़ों में प्रवेश करने पर ब्रोन्किओल्स (bronchioles) नामक छोटी नलियों में विभाजित हो जाती है। ब्रोंचीओल्स के अंत में छोटे वायु कोश होते हैं, जिन्हें एल्वियोली कहा जाता है। ये कोश ऑक्सीजन को उस हवा से खून में अवशोषित करते हैं जिससे हम सांस लेते हैं, और जैसे ही हम सांस लेते हैं, कार्बन डाइऑक्साइड को बाहर निकालते हैं। फेफड़ों का मुख्य काम ऑक्सीजन को लेना और कार्बन डाइऑक्साइड को बाहर निकालना है।

फेफड़े एक पतली परत से घिरे होते हैं जिसे प्लूरा (pleura) कहा जाता है जो कुशनिंग का काम करता है और सांस लेने के दौरान फेफड़ों को आगे और पीछे करने में मदद करता है। 

डायाफ्राम एक गुंबद के आकार की मांसपेशी है, जो पेट और छाती को अलग करती है। जब हम सांस लेते हैं, डायाफ्राम फेफड़ों से हवा को अंदर और बाहर निकालता है।

फेफड़े के कैंसर आमतौर पर ब्रोंची, ब्रोन्किओल्स या एल्वियोली की कोशिकाओं में शुरू होते हैं। इसे मोटे तौर पर दो प्रकारों में वर्गीकृत किया जाता है – नॉन-स्मॉल सेल लंग कैंसर और स्मॉल सेल लंग कैंसर, जो उनके सूक्ष्म रूप पर आधारित है।

 

 

नॉन-स्मॉल सेल लंग कैंसर

नॉन-स्मॉल सेल लंग कैंसर, कैंसर का सामान्य रूप होता है, जो लगभग 85% लोगों में पाया जाता है।

नॉन-स्मॉल सेल लंग कैंसर के तीन मुख्य उप-प्रकार होते हैं जिनमें शामिल हैंः 

  • एडिनोकार्सिनोमा 
  • स्क्वेमस सेल कार्सिनोमा 
  • लार्ज सेल कार्सिनोमा 

एडिनोकार्सिनोमा- एडिनोकार्सिनोमा अधिकांश तौर पर एशिया और पश्चिमी दुनिया में फेफड़े के कैंसर के सबसे आम प्रकार के रूप में उभरा है। जब भारत में विभिन्न प्रकार के फेफड़ों के कैंसर की घटनाओं के संबंध में बड़े पैमाने पर महामारी विज्ञान के अध्ययन नहीं हुए हैं, तृतीयक कैंसर केंद्रों से एकल-केंद्र रिपोर्ट एडेनोकार्सिनोमा को उपप्रकार के रूप में दर्शाती है जो भारत में सबसे अधिक प्रचलित है, इसके बाद स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा है।

वैसे फेफड़ों के कैंसर का यह रूप पूर्व और वर्तमान धूम्रपान करने वालों में देखा जाता है, हाल ही में बढ़ती घटनाओं के साथ, यह आमतौर पर धूम्रपान करने वालों और महिलाओं में भी देखा जाता है।

स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा- स्क्वैमस सेल कार्सिनोमास की शुरूआत फ्लैट कोशिकाओं में होती है जिसे स्क्वैमस कोशिकाएं कहा जाता है जो फेफड़ों के रास्ते को जोड़ती है। यह कैंसर धूम्रपान से जुड़ा हुआ है और आमतौर पर मध्य भाग में फेफड़ों (Bronchus) के मुख्य वायुमार्ग के पास होता है।

लार्ज सेल कार्सिनोमा: लार्ज सेल कार्सिनोमा फेफड़ों के किसी भी हिस्से में उत्पन्न हो सकते हैं। कैंसर का यह रूप आक्रामक है और इसका इलाज मुश्किल हो सकता है। बड़े सेल न्यूरोएंडोक्राइन कार्सिनोमा लार्ज सेल कार्सिनोमा का तेजी से बढ़ने वाला उपप्रकार है और छोटे सेल फेफड़ों के कैंसर जैसा दिखता है।

अन्य उपप्रकारः कुछ अन्य, कम सामान्य प्रकार के एनएससीएनसी (NSCLC) में सार्कोमाटॉइड कार्सिनोमा और एडेनोक्वामोसिन कार्सिनोमा शामिल हैं।

स्मॉल सेल लंग कैंसर

ऐसा कैंसर जो अत्यधिक धूम्रपान करने वाले लोगों में पाया जाता है और जो शरीर के अन्य हिस्से भी फैल सकता है, उसे स्मॉल सेल लंग कैंसर कहा जाता है।

एससीएलसी (SCLC) के तीन उपप्रकार हैं और इन उपप्रकारों को कैंसर में मौजूद कोशिकाओं के प्रकार और कैंसर कोशिकाओं के सूक्ष्मदर्शी के नीचे देखने के आधार पर नाम दिया गया हैः 

  1. ओट सेल प्रकार
  2. इंटरमीडिएट प्रकार
  3. कम्बाइन्ड स्मॉल सेल

नॉन-स्मॉल सेल लंग कैंसर और स्मॉल सेल लंग कैंसर के बीच अंतर

कारणः अतीत या वर्तमान में धूम्रपान का इतिहास नॉन-स्मॉल सेल लंग कैंसर और स्मॉल सेल लंग कैंसर दोनों का एक कारक है। हालांकि, स्मॉल सेल लंग कैंसर को नॉन-स्मॉल सेल लंग कैंसर की तुलना में धूम्रपान से अधिक मजबूती से जोड़ा जाता है।

आकारः सूक्ष्मदर्शी, स्मॉल सेल लंग कैंसर, नॉन-स्मॉल सेल लंग कैंसर की तुलना में छोटी कोशिकाओं से बने होते हैं।

विकास और प्रसारः SCLC,  NSCLC की तुलना में शरीर के अन्य हिस्सों में बहुत तेजी से फैलता है। अधिकांश स्मॉल सेल लंग कैंसर की खोज तभी की जाती है, जब वे तेज गति से शरीर के अन्य भागों में फैल गए हो। 

चरणः नॉन-स्मॉल सेल लंग कैंसर के विकास को चार चरणों में विभाजित किया गया है।

स्टेज 1- कैंसर कोशिकाएं लिम्फ नोड को प्रभावित नहीं करती फेफड़ों तक ही सीमित होती हैं।

स्टेज 2-  इस चरण में, पास के लिम्फ नोड प्रभावित होते हैं।

स्टेज 3- इसे लोकल एडवांस बीमारी भी कहा जाता है, स्टेज 3 तब होती है जब कैंसर छाती के केंद्र में स्थित लिम्फ नोड्स या कॉलरबोन के ऊपर फैलता है।

स्टेज 4- यह चरण एडवांस है, जहां कैंसर कोशिकाएं फेफड़े, आसपास के फुस्फुस, फुफ्फुस द्रव और अन्य दूर के अंगों जैसे हड्डी, गुर्दा या मस्तिष्क को प्रभावित करती हैं।

स्मॉल सेल लंग कैंसर दो चरणों में बढ़ता है:-

सीमित चरणः इस चरण में, कैंसर आम तौर पर छाती के एक ही तरफ लिम्फ नोड्स को प्रभावित किए बिना एक फेफड़े में बढता है। डॉक्टर सीमित चरण में कैंसर का इलाज करने के लिए कीमोथेरेपी के साथ संयुक्त विकिरण सहित आक्रामक उपचार का उपयोग करते हैं।

व्यापक चरणः कैंसर जो फेफड़ों से दूर लिम्फ नोड्स तक फैल गया हो, अन्य फेफड़े या बोन मैरो सहित अन्य शरीर के अंगों को व्यापक.चरण एससीएलसी के रूप में वर्गीकृत किया गया है। एससीएलस के इस चरण में कीमोथेरेपी पसंदीदा उपचार विकल्प है।

फेफड़े का एक्स-रे

उपचार का विकल्प

स्मॉल सेल लंग कैंसर के चरण के बावजूद, एक आवश्यक उपचार विकल्प कीमोथेरेपी है। कैंसर की अवस्था के आधार पर कीमोथेरेपी के अलावा रेडिएशन थेरेपी का उपयोग किया जा सकता है।

एससीएलसी के सीमित चरण में सर्जरी या कीमोथेरेपी व रेडिएशन थेरेपी के संयोजन की सलाह दी जाती है। आमतौर पर, ईटोपोसेड प्लस सिस्प्लैटिन चिकित्सा दवाएं हैं जिनका उपयोग सीमित चरण SCLC के उपचार के लिए किया जाता है।

व्यापक चरण एससीएलसी के मामलों में, सर्जरी का इस्तेमाल तब किया जाता है, जब ज्यादा फैला न हो। ट्यूमर के साइज को कम करने के रेडिएशन का इस्तेमाल किया जाता है। कीमोथेरेपी, संभवतः इम्यूनोथेरेपी दवा के संयोजन के साथ आमतौर पर काफी अच्छे स्वास्थ्य वाले लोगों में प्रारंभिक उपचार प्रक्रिया के रूप में इस्तेमाल की जाती है। ईटोपोसेड और सिस्प्लैटिन/कार्बोप्लैटिन, इस्तेमाल की जाने वाली कीमो दवाओं का एक सामान्य संयोजन है। प्रारंभिक उपचार के लिए कीमोथेरेपी दवाओं के साथ-साथ एटिजोलिजुमाब जैसी इम्यूनोथेरेपी दवाओं का भी उपयोग किया जा सकता है। हालांकि यह ज्यादातर रोगियों में कैंसर को काफी कम करने में मदद कर सकता है, दुर्भाग्य से, कैंसर व्यापक स्तर एससीएलसी के मामलों में कुछ बिंदु पर पुनरावृत्ति करेगा।

सर्जरी स्टेज I  और II NSCLC के लिए उपचार का विकल्प के साथ, पोस्ट-ऑपरेटिव बायोप्सी रिपोर्ट के आधार पर कीमोथेरेपी या रेडिएशन थेरेपी की जा सकती है। उन रोगियों के लिए जो चिकित्सकीय रूप से अक्षम हैं या सर्जरी से इनकार करते हैं, उनके लिए SBRT (Stereotactic body radiotherapy) एक विकल्प हो सकता है।

चरण 3 NSCLC में, कैंसर लिम्फ नोड्स में फैल जाता है, जो दूसरे फेफड़े के पास या गर्दन में होता है। इसलिए, सर्जरी इसके लिए बेहतर विकल्प नहीं होती क्योंकि कैंसर छाती के अन्य महत्वपूर्ण भागों में बढ़ जाता है। काफी अच्छे स्वास्थ्य वाले लोगों के लिए, कीमोराडिशन प्रारंभिक उपचार हो सकता है। यदि कीमोराडिशन के बाद कैंसर नियंत्रण में हैए तो स्थिति को और अधिक स्थिर करने के लिए एक वर्ष तक इम्यूनोथेरेपी दवा डुरवालुम्ब की सिफारिश की जा सकती है। जो लोग कीमोथेरेपी या विकिरण चिकित्सा को बर्दाश्त करने में सक्षम नहीं हैंए उनके लिए प्रारंभिक उपचार के रूप में लक्षित चिकित्सा या इम्यूनोथेरेपी का उपयोग किया जा सकता है। के चैथे चरण में जब बात स्टेज 4 NSCLC  की आती है तो, उपचार के लक्ष्यों को समझना बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह शरीर के विभिन्न हिस्सों में व्यापक है और इलाज के लिए बहुत मुश्किल है। इलाज की संभावना कम होने के बावजूद लक्षणों को दूर करने के लिए कीमोथेरेपी, रेडिएशन थेरेपी, इम्यूनोथेरेपी, टारगेट थेरेपी या सर्जरी का उपयोग किया जा सकता है।

 

 

बाद के चरणों में SCLC और NSCLC फेफड़ों के कैंसर के उपचार की जटिलता को देखते हुए, यह रोगियों और देखभाल करने वालों के लिए जानना उचित हैः
  • ट्यूमर की जटिलता
  • जिन स्थानों पर वे फैला है
  • सुझाए गए उपचारों के दुष्प्रभाव 
  • पोस्ट ट्रीटमेंट की स्थिति, पैलिएटिव या सहायक देखभाल जैसी अतिरिक्त देखभाल की आवश्यकता का सामना कैसे करें
  • अगर कैंसर के बाद सर्जरी या पुनरावृत्ति बढ़ने की कोई संभावना है

अपने डॉक्टरों के साथ इन पर चर्चा करने और उपचार के विकल्पों के बारे में सब कुछ समझने से उपचार के दौरान या बाद में आपका आत्मविश्वास बढ़ेगा है और कैंसर के इलाज के इस सफर में आपकी हिम्मत बढेगी।

फेफड़ों के कैंसर का पता अन्य कैंसर की तरह, जब जल्दी चल जाता है तो इसके इलाज की संभावना बढ जाती हैै। स्क्रीनिंग, उपचार के विकल्प और फेफड़ों के कैंसर के जोखिम कारकों के बारे में अधिक जानने के लिए अपने क्षेत्र के एक फेफड़ों के कैंसर वाले विशेषज्ञ से संपर्क करें।

Related Posts

Leave a Comment