फेफड़ों के कैंसर के लिए इम्यूनोथेरेपी का उपचार 

by Team Onco
56 views

इम्यूनोथेरेपी फेफड़ों के कैंसर के कुछ रूपों, विशेष रूप से नाॅन-स्माॅल  सेल लंग कैंसर के लिए उपयोग किया जाने वाला उपचार है।

इम्यूनोथेरेपी में दवाओं का उपयोग किया जाता है जो कैंसर कोशिकाओं की पहचान करने और उन्हें नष्ट करने के लिए आपके इम्यून सिस्टम को बेहतर बनाने का काम करती हैं।

फेफड़ों के कैंसर के लिए इम्यूनोथेरेपी कैसे काम करती है? 

आपका इम्यून सिस्टम आपको संक्रमण और बीमारी से बचाने का काम करता है। आपकी इम्यून सेल्स शरीर में प्रवेश करने वाले कीटाणुओं और एलर्जी जैसे बाहरी पदार्थों को टारगेट करने और उन पर हमला करने का काम करते हैं।

आपका इम्यून सिस्टम कैंसर कोशिकाओं को भी निशाना बना सकता है और उन पर हमला कर सकता है। हालांकि, कैंसर कोशिकाएं कुछ चुनौतियों का सामना करती हैं। वे स्वस्थ कोशिकाओं के समान दिखाई दे सकते हैं, जिससे उनका पता लगाना मुश्किल हो जाता है। इसके अलावा, वे तेजी से बढ़ते और फैलते हैं।

इम्यूनोथेरेपी कैंसर कोशिकाओं से लड़ने की आपके इम्यून सिस्टम की क्षमता को बढ़ाने में मदद कर सकती है। विभिन्न प्रकार की इम्यूनोथेरेपी हैं जो अलग-अलग तरीकों से काम करती हैं। 

फेफड़ों के कैंसर के लिए इम्यूनोथेरेपी

इम्यून चेकपॉइंट इन्हिबिटर्स (Immune checkpoint inhibitors)

आपका इम्यून सिस्टम यह सुनिश्चित करने के लिए प्रोटीन-आधारित “चेकपॉइंट” की एक सिस्टम का उपयोग करता है कि यह स्वस्थ कोशिकाओं पर हमला नहीं कर रही है। इम्यून सिस्टम के हमले को शुरू करने के लिए कुछ प्रोटीनों को सक्रिय या निष्क्रिय किया जाना चाहिए।

कैंसर कोशिकाएं कभी-कभी नष्ट होने से बचने के लिए इन चेकपॉइंट का फायदा उठाती हैं। इम्यूनोथेरेपी दवाएं जो चेकपॉइंट को रोकती हैं, इसे और अधिक कठिन बना देती हैं।

मोनोक्लोनल एंटीबॉडी (Monoclonal antibodies

मोनोक्लोनल एंटीबॉडी एक लैब में बने प्रोटीन होते हैं। वे कैंसर कोशिकाओं के विशिष्ट भागों से बंधते हैं। मोनोक्लोनल एंटीबॉडी दवाओं, विषाक्त पदार्थों या रेडियोधर्मी पदार्थों को सीधे कैंसर कोशिकाओं तक ले जा सकते हैं।

एक बार जब इन मोनोक्लोनल एंटीबॉडी द्वारा कैंसर कोशिकाओं की पहचान कर ली जाती है, तो इम्यून सिस्टम सक्रिय हो जाती है और कैंसर कोशिका को नष्ट कर देती है।

कैंसर के लिए वैक्सीन 

कैंसर की वैक्सीन ठीक उसी तरह काम करती हैं जैसे अन्य बीमारियों की वैक्सीन वे एंटीजन पैदा करती हैं, जो बाहरी पदार्थ हैं जिनका उपयोग कोशिकाओं के खिलाफ इम्यून सिस्टम की प्रतिक्रिया को ट्रिगर करने के लिए किया जाता है।

कैंसर की वैक्सीन में, कैंसर कोशिकाओं पर हमला करने के लिए एंटीजन का उपयोग किया जा सकता है। प्रोस्टेट कैंसर और मेलेनोमा नामक एक प्रकार के स्किन कैंसर के लिए अब एफडीए द्वारा अप्रुव कैंसर वैक्क्सीन है। 

अन्य प्रतिरक्षा चिकित्सा

अन्य इम्यूनोथेरेपी दवाएं आपकी इम्यून सिस्टम को मजबूत करती हैं, जिससे यह कैंसर कोशिकाओं से लड़ने में अधिक प्रभावी हो जाती है।

इम्यूनोथेरेपी दवाओं के दुष्प्रभाव

इम्यूनोथेरेपी दवाओं के दुष्प्रभाव हो सकते हैं। इनमें से कुछ में शामिल हैं:

  • थायराइड हार्मोन फ्लक्चुएशन (Thyroid Hormone Fluctuation)
  • दस्त
  • थकान
  • खुजली
  • जोड़ों का दर्द
  • भूख की कमी
  • जी मिचलाना
  • त्वचा के चकत्ते

अधिकांश दुष्प्रभाव हल्के और आसानी से प्रबंधनीय होते हैं। कुछ रोगियों (3-5%) में गंभीर दुष्प्रभाव होते हैं- इम्यून सिस्टम को दबाने के लिए उन्हें स्टेरॉयड दिए जाते हैं। 

Related Posts

Leave a Comment