कीमोथेरेपी से होने वाले 8 दुष्प्रभाव और इसके उपाय         

by Team Onco
365 views

कैंसर में कीमोथेरेपी अनिवार्य रूप से एक उपचार है जिसमें दवाओं की मदद से कैंसर कोशिकाओं को तेजी से नष्ट किया जाता है। कीमोथेरेपी को या तो एक विशेष प्रकार के कैंसर के आधार पर एकमात्र उपचार के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है या जैसा कि पहले बताया गया है, दूसरों के साथ संयोजन में भी इस्तेमाल किया जाता है। इसे ज्यादातर इंट्रावेनस (खून की नस में) इंजेक्शन के रूप में और कभी-कभी मुख से ले जाने वाली दवाओं के रूप में दिया जाता है। 

कीमोथेरेपी कई प्रकार के कैंसर का प्रभावी ढंग से इलाज करती है। लेकिन अन्य उपचारों की तरह, यह अक्सर दुष्प्रभाव का कारण भी बनती है।

कैंसर कोशिकाएं तीव्र गति से विभाजित करती हैं, और उनमें शरीर के अन्य हिस्सों में फैलने की प्रवृत्ति होती है, जो कि कैंसर की उत्पत्ति वाले के अंग से दूर है।क्योंकि कीमोथेरेपी को रक्त की नसों में डाल दिया जाता है, तो वो दवाइयाँ खून में मिलकर हर उस स्थान पर काम करती है जहां पर कैंसर विकसित हो रहा होता है जबकि सर्जरी और रेडियोथेरेपी मुख्यतः कैंसर के मूल उत्तक पर इस्तेमाल किए जा सकते हैं।

कीमोथेरेपी कई प्रकार के कैंसर का प्रभावी ढंग से इलाज करती है। लेकिन अन्य उपचारों की तरह, यह अक्सर दुष्प्रभाव का कारण भी बनती है। कीमोथेरेपी के दुष्प्रभाव प्रत्येक व्यक्ति के लिए अलग होते हैं। वे कैंसर, स्थान, दवाओं और खुराक के प्रकार, और आपके सामान्य स्वास्थ्य पर निर्भर करते हैं। आइए जानते हैं कि इन साइड इफेक्टस के बारे में…

कीमोथेरेपी के कारण मतली और उल्टी की समस्या हो सकती है।

मतली और उल्टी

मतली और उल्टी 

कीमोथेरेपी के कारण मतली और उल्टी की समस्या हो सकती है। यह एक व्यक्ति के इलाज और बीमारी की गंभीरता पर निर्भर करता है। आप इसे नियंत्रित करने के लिए मतली की दवाएँ ले सकते हैं। हालांकि इसके लिए आपको अपने चिकित्सक से पहले परामर्श करना होगा। इसके साथ ही आपका खान-पान का वक्त आपकी मतली और उल्टी की समस्या में कमी ला सकता है, इसके लिए आप अपने मील को तीन की जगह 5 से 6 भागों में बांटकर इसका सेवन करें। आप हल्का खाना खाएं, ज्यादा तले हुए खाद्य पदार्थों से दूरी बनाए रखें।

कुछ प्रकार की कीमोथेरेपी में आपके स्वाद प्रभावित हो सकता है। ऐसा कई बार होता है कि आप ठीक से खाने का आनंद नहीं ले पाते हैं।

स्वाद में बदलाव

यह भी पढ़ें: आपकी भूख को सुधारेंगे ये पौष्टिक सूप

स्वाद में बदलाव आना

कुछ प्रकार की कीमोथेरेपी में आपके स्वाद प्रभावित हो सकता है। ऐसा कई बार होता है कि आप ठीक से खाने का आनंद नहीं ले पाते हैं। ऐसे में रेड मीट आपको अलग स्वाद दे सकता है। यदि ऐसा है, तो इसके बजाय आप पोल्ट्री, हल्के स्वाद वाली मछली या डेयरी उत्पादों का उपयोग करें। यदि आपके पसंदीदा खाद्य पदार्थों का स्वाद आपको अलग लग रहा है तो, उनके सेवन से बचें। ऐसा भी होता है कि बर्तनों मे आपको धातु का स्वाद आए ऐसे में आप प्लास्टिक के बर्तनों के साथ खाने की कोशिश करें।

थकान महसूस करना और ऊर्जा की कमी, कैंसर के रोगियों द्वारा बताया जाने वाला सबसे सामान्य लक्षण है।

थकान

यह भी पढ़ें: कीमो पोर्ट को लेकर क्या आपके मन में भी हैं ये सवाल ?

थकान

थकान महसूस करना और ऊर्जा की कमी, कैंसर के रोगियों द्वारा बताया जाने वाला सबसे सामान्य लक्षण है। इसका सटीक कारण क्या है यह हमेशा पता नहीं होता है। यह कई अन्य कारकों के कारण हो सकता है जैसे कि रोग, कीमोथेरेपी, ब्ल्ड काउंट कम होना, नींद की कमी, दर्द, तनाव, भूख न लगना। इसके लिए आप दिन में थोडी नींद ले सकते हैं। यदि आपकी हिम्मत होती है तो आप थोडे वक्त के लिए वाॅक भी कर सकते हैं, जिससे आपके शरीर में ऊर्जा आएगी।

कब्ज तब होता है, जब आपको मल त्याग कम बार होता है और आपको बाथरूम जाने में परेशानी होती है। अपने आहार में फाइबर बढ़ाकर कब्ज को कम किया जा सकता है।

कब्ज

कब्ज

कीमोथेरेपी, दर्द की दवाओं, मतली-निरोधक दवाओं या आपके आहार या गतिविधि में परिवर्तन के परिणामस्वरूप आपको कब्ज की समस्या हो सकती हैै। कब्ज तब होता है, जब आपको मल त्याग कम बार होता है और आपको बाथरूम जाने में परेशानी होती है। अपने आहार में फाइबर बढ़ाकर कब्ज को कम किया जा सकता है। तरल पदार्थ और थोडा एक्टिव रहने से कब्ज को रोकने में मदद मिल सकती है। यदि आपने दो या उससे अधिक दिनों तक स्टूल पास नहीं किया है तो तुरंत अपने डॉक्टर को इस बारे मे बताएं।

कुछ कीमोथेरेपी दवाएँ बालों को प्रभावित करती हैं। कभी-कभी कीमोथेरेपी शरीर के सभी बालों को प्रभावित कर सकती है, जिसमें आइब्रो, लैशेस और प्यूबिक हेयर भी शामिल हैं। नुकसान आमतौर पर अस्थायी है।

बालों का झड़ना

बालों का झड़ना

कुछ कीमोथेरेपी दवाएँ बालों को प्रभावित करती हैं। कभी-कभी कीमोथेरेपी शरीर के सभी बालों को प्रभावित कर सकती है, जिसमें आइब्रो, लैशेस और प्यूबिक हेयर भी शामिल हैं। नुकसान आमतौर पर अस्थायी है। आप या तो अपने कुछ बाल या फिर सभी बाल खो सकते हैं। यह धीरे-धीरे वापस आ जाते हैं। यदि आप अपने बालों को खो देते हैं तो आप स्कार्फ़, विग या टोपी  का इस्तेमाल कर सकते हैं। यदि आप अपने बालों को खो देते हैं, तो आपकी खोपड़ी की बचाव करना ही महत्वपूर्ण नहीं हैं, आपको इसके लिए धूप के साथ-साथ गर्मी और ठंड दोनों में इसका बचाव करना है। यदि आप टोपी या स्कार्फ़ नहीं पहनना चुनते हैं, तो अपनी खोपड़ी पर सनस्क्रीन का उपयोग करें।

आपको उपचार के दौरान या उसके बाद, लालिमा, दर्द या उस जगह पर या उसके आस-पास के क्षेत्र में दर्द महसूस हो सकता है

त्वचा में बदलाव

त्वचा में बदलाव

आपके शरीर की त्वचा का एक अन्य हिस्सा कीमोथेरेपी के कुछ दुष्प्रभाव दिखा सकता है। यदि आपने इंजेक्शन द्वारा कीमोथेरेपी प्राप्त की है, तो आपको उपचार के दौरान या उसके बाद, लालिमा, दर्द या उस जगह पर या उसके आस-पास के क्षेत्र में दर्द महसूस हो सकता है ऐसे में आप अपने नर्स या डॉक्टर को अवश्य बताएं।

उपचार के बाद के महीनों में तक आप धूप के प्रति अधिक संवेदनशील हो सकते हैं। इसलिए सीधे सूर्य के प्रकाश के संपर्क में आने से बचें

धूप से परेशानी

धूप से परेशानी होना

उपचार के बाद के महीनों में तक आप धूप के प्रति अधिक संवेदनशील हो सकते हैं। इसलिए सीधे सूर्य के प्रकाश के संपर्क में आने से बचें, खासकर जब सूर्य की किरणें सबसे मजबूत हों (सुबह 10 बजे और शाम 4 बजे के बीच)। आप सनस्क्रीन का उपयोग करें (30 या उससे ज्यादा एसपीएफ वाली) और सनस्क्रीन के साथ लिप बाम का भी उपयोग करें। कोशिश करें कि आप लंबी पैंट, लंबी आस्तीन वाली शर्ट और चेहरे को अच्छे से कवर करके ही बाहर निकले।

कैंसर और इसका उपचार प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर कर सकता है। क्योंकि कीमोथेरेपी स्वस्थ प्रतिरक्षा कोशिकाओं को मार देती है, यह एक व्यक्ति को संक्रमण के प्रति अधिक संवेदनशील बना सकती है।

कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली

कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली

कैंसर और इसका उपचार प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर कर सकता है। क्योंकि कीमोथेरेपी स्वस्थ प्रतिरक्षा कोशिकाओं को मार देती है, यह एक व्यक्ति को संक्रमण के प्रति अधिक संवेदनशील बना सकती है। क्योंकि एक व्यक्ति की प्रतिरक्षा प्रणाली कीटाणुओं से लड़ने में कम सक्षम होगी, इसलिए संक्रमण लंबे समय तक रह सकता है। स्वास्थ्यवर्धक आहार का सेवन, बार-बार हाथ धोना, ऐसे लोगों से बचना जो बीमार हैं, और बीमारी के लक्षणों के लिए शीघ्र इलाज करना गंभीर संक्रमणों के जोखिम को कम कर सकता है।

 

 

यह भी पढ़ें: कैंसर रोगियों के लिए टाॅप 10 सुपरफूड

कीमोथेरेपी किसी भी कैंसर के इलाज का एक बहम हिस्सा है, हालांकि इससे होने वाले दुष्प्रभाव किसी भी मरीज को एक सीमित वक्त तक ही सहने पडते हैं
कुछ वक्त के बाद दवाओं और अन्य उपायों की मदद से इन साइड इफेक्टस को खत्म किया जा सकता है। आज तक कैंसर को हरा देने के लिए कीमोथेरेपी सबसे सफल उपचारों में से एक रहा है और इस क्षेत्र में कई प्रगति होती रहती है, ताकि मरीजों के लिए पूरी प्रक्रिया को और अधिक आरामदायक बनाया जा सके।

Related Posts

Leave a Comment

Here are frequently asked questions answered on coronavirus and its impact on cancer patients हिन्दी
Bitnami