जानें, पैलिएटिव कीमोथेरेपी के बारे में सब कुछ

by Team Onco
907 views

पैलिएटिव कीमोथेरेपी क्या है?

कीमोथेरेपी आमतौर पर ट्यूमर को सिकोड़ने और प्रभावी ढंग से ठीक करने में मदद करती है। इसके कुछ उदाहरण लिम्फोमा, ल्यूकेमिया और वृषण कैंसर हैं। मेटास्टेसिस (जब रोग शरीर के अलग-अलग हिस्सों में फैलता है) के कैंसर के लिए, अन्य उपचार के तौर-तरीकों के साथ कीमोथेरेपी की आवश्यकता भी होती है। पैलिएटिव कीमोथेरेपी मेटास्टेटिक कैंसर रोगियों की जीवन प्रत्याशा को बढ़ाने में मदद करती है।

कीमोथेरेपी आमतौर पर ट्यूमर को सिकोड़ने और प्रभावी ढंग से ठीक करने में मदद करती है।

पैलिएटिव कीमोथेरेपी का चयन करते समय कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखें

इस इलाज की प्रतिक्रिया की दर इस बात को दर्शाती है कि उपचार के बाद ट्यूमर में काफी हद तक सुधार होगा। 20 प्रतिशत की प्रतिक्रिया दर का मतलब है कि यदि 100 रोगियों का इलाज किया गया, तो उनमें से 20 का ट्यूमर आधा या काफी हद तक सिकुड़ जाता है। आपकी चिकित्सा टीम आपको इसके लिए वक्त-वक्त पर जानकारी देती रहती है।

मेडियन अवधि आपको बताती है कि ट्यूमर के फिर से बढ़ने से पहले एक मरीज को उपचार के लिए सकारात्मक प्रतिक्रिया की उम्मीद कब तक है। पैलिएटिव कीमोथेरेपी के मामलों में ज्यादातर, यह संख्या 3 से 12 महीने के बीच है। एक लंबी सकारात्मक प्रतिक्रिया एक लंबी जीवन प्रत्याशा की ओर इंगित करती है।

पैलिएटिव कीमोथेरेपी के साइड इफेक्ट

कीमोथेरेपी के बाद किसी को प्रभावित करने वाली गंभीरता और कई तरह के दुष्प्रभावों में पिछले दो दशकों में काफी सुधार हुआ है, इनमें कई सामान्य लक्षण हैं जिनमें थकान, बालों का झड़ना, वजन में कमी आना, भूख में कमी और रक्त गणना में परिवर्तन हैं। लेकिन जो लक्षण उत्पन्न होते हैं, वे आमतौर पर कीमोथेरेपी की प्रकृति और उस तरह के ट्यूमर पर निर्भर करते हैं जिसका इलाज किया जा रहा है। आप अपने चिकित्सा ऑन्कोलॉजिस्ट से अपने उपचार की विशिष्टताओं के बारे में पूछ सकते हैं और इस बारे में जानकारी ले सकते हैं कि उन्हें कैसे रोका जाए।

पैलिएटिव कीमोथेरेपी की आवश्यकता किसे होती है?

पैलिएटिव कीमोथेरेपी आमतौर पर चौथी स्टेज के कैंसर रोगियों को दी जाती है, जहां उपचार का मकसद रोगनिवारक नहीं होता है और उन रोगियों के लिए जो उपचारात्मक कीमोथेरेपी का जवाब नहीं देते हैं, जहां उपचार का लक्ष्य कैंसर को कम करना और पुनरावृत्ति को रोकना होता है।

कीमोथैरेप्यूटिक पैलिएशन पर अध्ययन

कीमोथेरेपी कैंसर के लिए एक अकेला ही विकल्प नहीं है। इसलिए कई परीक्षण (अध्ययन) यह देखने के लिए किए गए कि क्या पैलिएटिव कीमोथेरेपी वास्तव में रोगी के जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने में उपयोगी है या नहीं। लेकिन जीवन की गुणवत्ता को मापा नहीं जा सकता है। यह रोगी की राय पर निर्भर करता है कि उसे अपने जीवन की गुणवत्ता में सुधार महसूस होता है या नहीं। क्योंकि यह किसी अन्य तरीके से नहीं मापी जा सकती है, इसलिए पैलिएटिव कीमोथेरेपी की उपयोगिता का अध्ययन करना मुश्किल हो जाता है। 

फायदा और नुकसान को ध्यान में रखते हुए

पैलिएटिव केयर के लिए निर्णय लेने से पहले, जीवन की गुणवत्ता, सामान्य स्वास्थ्य और रोगी की उम्र के घटकों को ध्यान में रखना बहुत जरूरी है। एक ट्यूमर पर पैलिएटिव केयर का जो प्रभाव पड़ेगा, वह अलग-अलग मामलों में अलग-अलग होगा।

कैंसर का इलाज करने से कोई आसान तरीका नहीं है और आप अपने डॉक्टर से अपने केस के बारे में बात करके अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

Leave a Comment

Click here to subscribe to our newsletter हिन्दी