ब्लैक, व्हाइट और येलो फंगस जानें इनके बारे में सब कुछ 

by Team Onco
318 views

साल 2019 से शुरू हुआ कोरोना वायरस बढ़ते वक्त के साथ देश के लिए एक बड़ी आपदा का रूप ले चुका है। कोविड-19 संक्रमण की दूसरी लहर ने दुनिया के लगभग हर देश में अभूतपूर्व मौतों और अर्थव्यवस्था की मंदी लाते हुए पहले की तुलना में अधिक नुकसान किया है। टीकों, दवाओं, अस्पताल के बेड और ऑक्सीजन सिलेंडर की कमी के अलावा कई देश कई नए संकट का सामना कर रहा है। कोविड-19 रोगी जो ठीक हो चुके हैं या ठीक हो गए हैं, उनमें म्यूकोर्मिकोसिस विकसित हो रहा है, इसके गंभीर परिणाम हैं जिसमें घातक परिणाम भी शामिल हैं। तो ये महत्वपूर्ण है कि, हर कोई इस स्थिति से अवगत हो। कोरोनावायरस के बाद कुछ अलग तरह के फंगस का प्रसार काफी तेजी से बढ रहा है। जिनमें ब्लैड फंगस के साथ-साथ वाइट और येलो फंगस शामिल हैं। आज इस ब्लॉग में हम आपको इन फंगस के बारे में पूरी जानकारी देंगे। 

जैसा कि आप जानते हैं onco.com एक कैंसर केयर प्लेटफाॅर्म है। कैंसर से जुड़े अन्य ब्लाॅग्स के लिए आप यहां क्लिक करें।

म्यूकोर्मिकोसिस तब होता है जब कोई व्यक्ति हवा में फंगल बीजाणुओं को अंदर लेता है।

ब्लैक फंगस 

भारत में, जो मरीज कोविड-19 से ठीक हो गए हैं, उनमें म्यूकोर्मिकोसिस या ब्लैक फंगस की परेशानी तेजी से देखी जा सकती है। यह एक दुर्लभ फंगल संक्रमण है वातावरण में फंगस के बीजाणुओं के संपर्क में आने से होता है। यह फंगस के कटने, खुरचने, जलने या किसी अन्य प्रकार के त्वचा आघात के माध्यम से प्रवेश करने के बाद भी त्वचा में बन सकता है। 

फंगस पर्यावरण में रहते हैं, विशेष रूप से मिट्टी और सड़ने वाले कार्बनिक पदार्थ जैसे पत्ते, खाद के ढेर, सड़ी हुई लकड़ी में। यह फंगस संक्रमण एक प्रकार के फफूंद के कारण होता है जिसे म्यूक्रोमाइसेट्स के नाम से जाना जाता है। ध्यान देने वाली बात यह है कि यह दुर्लभ फंगल संक्रमण उन लोगों को प्रभावित करता है जो पहले से स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से जूझ रहे हैं या जो दवाओं का उपयोग कर रहे हैं, जो संक्रमण से लड़ने के लिए शरीर की क्षमता को कमजोर कर देते हैं।

यह स्थिति काफी दुर्लभ है जो कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले व्यक्तियों पर हमला कर रही है, और समय पर इसका इलाज नहीं कराने पर यह  संभावित रूप से जीवन के लिए एक खतरा बन रही है। यही कारण है कि ठीक होने वाले कोविड-19 मरीज इस फंगल इंफेक्शन की चपेट में आ रहे हैं। अनियंत्रित मधुमेह और कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले कोविड -19 रोगियों में विशेष रूप से इस स्थिति के विकसित होने का अधिक जोखिम बढ रहा है। इस बीमारी में कई मरीजों के आंखों की रोशनी जा चुकी है। वहीं कुछ मरीजों के जबड़े और नाक की हड्डी के गलने की भी शिकायतें हैं। इसके अतिरिक्त भी तमाम दूसरी परेशानियां हैं। अगर समय रहते इसे कंट्रोल न किया गया तो इससे मरीज की मौत भी हो सकती है।

म्यूकोर्मिकोसिस के सामान्य लक्षण

म्यूकोर्मिकोसिस तब होता है जब कोई व्यक्ति हवा में फंगल बीजाणुओं को अंदर लेता है। ये बीजाणु बाहर और घर के अंदर, विशेष रूप से अस्पताल की सेटिंग में पाए जा सकते हैं। म्यूकोर्मिकोसिस छूत की बीमारी नहीं है और यह किसी संक्रमित व्यक्ति या जानवर से नहीं फैलता है। 

म्यूकोर्मिकोसिस के सामान्य लक्षण और संकेत शरीर के उस हिस्से पर निर्भर करते हैं जहां फंगस बढ़ रहा है। साइनस और मस्तिष्क को प्रभावित करने वाले म्यूकोर्मिकोसिस के लक्षण हैंः

  • चेहरे के एक तरफ सूजन
  • सरदर्द
  • नाक और साइनस की दिक्कत
  • नाक या मुंह के ऊपरी हिस्से पर काले धब्बे जो जल्दी ही गंभीर घाव का रूप लें ले। 
  • बुखार
  • दांत दर्द
  • आंख और नाक में सूजन
  • धुंधला दिखना 

फेफड़ों को प्रभावित करने वाले म्यूकोर्मिकोसिस के लक्षणों में शामिल हैं

  • बुखार
  • खांसी
  • सांस लेने में कठिनाई
  • श्वसन संबंधी लक्षणों का बिगड़ना, जो कोविड-19 में भी आम है।
  • छाती में दर्द

म्यूकोर्मिकोसिस के अन्य लक्षण जो त्वचा और रोगी के जठरांत्र प्रणाली को प्रभावित करते हैं, उनमें शामिल हैं

  • जी मिचलाना
  • उल्टी
  • पेट में दर्द
  • त्वचा पर छाले या फफोले, इसके बाद संक्रमित क्षेत्र का काला पड़ जाना।
  • घाव के आसपास लाली या सूजन।

ब्लैक फंगस का इलाज

रोग के प्रभाव को कम करने के लिए म्यूकोर्मिकोसिस का उपचार त्वरित और आक्रामक होना चाहिए। तुरंत कार्रवाई ऊतक की क्षति की मात्रा को कम करती है और मौजूदा क्षति को उलट देने में मदद करती है। उपचार के सामान्य कोर्स में मेडिकल और सर्जरी उपचार शामिल हैं और यह संक्रमण की गंभीरता और रोगी की समग्र स्वास्थ्य स्थिति पर निर्भर करता है।

म्यूकोर्मिकोसिस के उपचार में शामिल हो सकते हैंः

  • संक्रमित क्षेत्र को सर्जरी की मदद से हटाना।
  • एंटीफंगल दवाएं जैसे अम्फोटेरिसिन बी (अंतःशिरा) संक्रमण के प्रसार को धीमा करने के लिए।
  • स्थिति का इलाज करने के लिए अन्य एंटीफंगल दवाएं, जैसे पॉसकोनाजोल या इसावुकोनाजोल।
  • इन दवाओं के साथ-साथ रोगी की अंतर्निहित स्थिति जैसे अनियंत्रित मधुमेह को नियंत्रण में लाया जाना जरूरी है।
  • रोगियों के लिए स्टेरॉयड दवाएं बंद कर दी जाती हैं क्योंकि वे फंगस को शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली पर काबू करने देती है।
  • रोग को नियंत्रण में लाने के लिए लंबे समय तक एंटीफंगल उपचार।

म्यूकोर्मिकोसिस की जटिलता के कारण, इसके उपचार के लिए आमतौर पर विशेषज्ञों, सर्जनों और सूक्ष्म जीव वैज्ञानिकों की एक टीम की आवश्यकता होती है। ऐसे में यह सलाह दी जाती है कि ऊपर दिए गए किसी भी तरह के लक्षणों का सामना करने पर घर पर, इसका इलाज करने का प्रयास न करें।

व्हाइट फंगस को एस्परजिलस या कैंडीडा के नाम से भी जाना जाता है।

व्हाइट फंगस

भारत में कुछ राज्यों में ब्लैक के बाद व्हाइट फंगस के मामले भी देखने को मिल रहे हैं और यह काफी खतरनाक है। व्हाइट फंगस को एस्परजिलस या कैंडीडा के नाम से भी जाना जाता है। यह म्यूकोर्मिकोसिस ज्यादातर बच्चों और महिलाओं में देखा जाता है। डॉक्टरों का मानना है कि सफेद फंगस ऑक्सीजन सांद्रक/सिलेंडर के अस्वच्छ उपयोग, साफ पानी के बजाय ह्यूमिडिफायर में नल के पानी का उपयोग करने और स्टेरॉयड के ज्यादा उपयोग का परिणाम है। इसे वास्तव में ब्लैक फंगस से ज्यादा घातक कहा जाता है। कोरोना को मात देने के बाद लोगों को कई तरह की चुनौतियों का सामना करना पड रहा है।

व्हाइट भी ब्लैक फंगस की तरह कोरोना संक्रमित मरीजों, जो कि मधुमेह से भी पीड़ित हैं, ऐसे मरीजों पर आसानी से हमला करता है। व्हाइट फंगस व्यक्ति के शरीर की आंख, गला, आंत, लीवर, जीभ जैसे अंगों पर हमला करता है। यह फंगस उस अंग की कोशिकाओं को काफी तेजी से बर्बाद कर देता है। परेशानी बढ़ने के बाद वह अंग काम करना बंद कर देता है। कई बार मरीज ठीक से इस फंगस के बारे में समझ भी नहीं पाते हैं, और वह उनके लिए जानलेवा बन जाता है। इस स्थिति में अगर मरीज कोरोना को मात दे भी देता है तो शरीर के अन्य अंग के फैलने पर मौत हो जाती है। 

यह फंगस उन लोगों पर ज्यादा अटैक कर रहा है, जिन्होंने जरूरत से ज्यादा स्टेरॉयड और एंटीबायोटिक का सेवन किया है। डायबिटीज, लंग्स और कैंसर के मरीजों को इस वक्त अपना खासतौर पर ध्यान देने की जरूरत है, क्योंकि वह भी इसके चपेट में आ सकते हैं। इसके साथ कोरोनावायरस से रिकवर हुए लोगों को अपनी सेहत की देखभाल की जरूरत है। 

व्हाइट फंगस के लक्षण कभी-कभी कोविड-19 के लक्षणों के समान हो सकते हैं। 

  • खांसी
  • बुखार और सांस फूलना
  • दस्त
  • फेफड़ों पर काले धब्बे, छाती के सीटी-स्कैन द्वारा पता लगाया गया
  • ऑक्सीजन के स्तर में कमी
  • मुंह के अंदर सफेद धब्बे
  • त्वचा में घाव

व्हाइट फंगस का इलाज

व्हाइट फंगस का उपचार भी अन्य फंगस की दवाओं की तरह है। डॉक्टर इसे शरीर के विभिन्न अंगों में फैलने से रोकने के लिए ऐंटिफंगल दवाओं का हाई डोज देंगे।

येलो फंगस जिसे म्यूकर सेप्टिक के नाम से भी जाना जाता है, ज्यादातर छिपकलियों जैसे सरीसृपों में पाया जाता है और यह मनुष्यों में काफी दुर्लभ है।

येलो फंगस 

चिकित्सकों की मानें तो येलो फंगस, ब्लैक और व्हाइट फंगस से भी ज्यादा खतरनाक है। येलो फंगस जिसे म्यूकर सेप्टिक के नाम से भी जाना जाता है, ज्यादातर छिपकलियों जैसे सरीसृपों में पाया जाता है और यह मनुष्यों में काफी दुर्लभ है। हालांकि, देश के कुछ हिस्सों में इस समय येलो फंगस के मामले सामने आ रहे हैं। इसे अन्य दो फंगस की तुलना में कहीं अधिक खतरनाक माना जाता है, क्योंकि यह बहुत तेजी से फैलता है और डॉक्टरों को उपचार के बारे में निर्णय लेने का समय नहीं देता है। येलो फंगस का पहला मामला यूपी के गाजियाबाद में आया था। इसका मुख्य कारण अस्वस्थ खाना और गंदी जगह है। यदि आपके घर के आस-पास गंदगी है और आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर है, तो येलो फंगस के अगले मरीज आप भी हो सकते हैं। ऐसे में आपको अपने घर के आस-पास साफ सफाई रखने के साथ, पुराने और सड़े गले सामान या खाने को घर से बाहर रखने की जरूरत है। म्यूकर सेप्टिक परिवेश में अधिक नमी, गंदगी, अन्य प्रदूषकों, बासी, खराब भोजन का सेवन करने के कारण होता है। स्टेरॉयड और जीवाणुरोधी दवाओं का अंधाधुंध उपयोग भी इसका अन्य कारण है। डॉक्टरों के मुताबिक येलो फंगल इंफेक्शन फैलने का मुख्य कारण घरों के आसपास मल मूत्र का जमा होना है। 

येलो फंगस के लक्षण

  • गंभीर थकान
  • भूख में कमी
  • वजन घटाना
  • घावों को ठीक होने में वक्त लगना
  • मवाद रिसाव
  • धंसी हुई आंखें
  • शरीर के अंगों का विफल होना 

येलो फंगस का उपचार

येलो फंगल इन्फेक्शन ट्रीटमेंट के बारे में अधिक जानकारी अभी नहीं मिल सकी है क्योंकि यह संक्रमण भारत में नया है। फिलहाल मरीजों को कुछ सामान्य दवाओं के इस्तेमाल की सलाह दी गई है। इन दवाओं का इस्तेमाल केवल डॉक्टरों की देखरेख में ही करना चाहिए। अम्फोटेरिसिन बी इंजेक्शन, एक व्यापक स्पेक्ट्रम एंटिफंगल दवा है, जिसका उपयोग परोपकारी डॉक्टरों द्वारा वर्तमान उपचारों में किया जा रहा है। आपको अपने डॉक्टर से सलाह के अनुसार ही अम्फोटेरिसिन बी इंजेक्शन लेना चाहिए।वर्तमान में, येलो फंगल उपचार के रूप में ब्रॉड-स्पेक्ट्रम एंटी फंगल दवा के उपयोग की सिफारिश की जा रही है।

जैसा कि आप जानते हैं onco.com एक कैंसर केयर प्लेटफाॅर्म है। कैंसर से जुड़े अन्य ब्लाॅग्स के लिए आप यहां क्लिक करें।

फंगल अटैक को कैसे रोकें?

चाहे वह ब्लैक हो, व्हाइट हो या येलो – ये फंगस घातक होते हैं और हमारे स्वास्थ्य को अत्यधिक नुकसान पहुंचा सकते हैं। चिकित्सक कोविड-19 लक्षणों और इन फंगस के बारे में समान रूप से चिंतित है। 

  1. अपने आसपास के वातावरण को बिल्कुल साफ रखें। धूल, सड़ी सब्जियां, फल सही जगह फेंकना सुनिश्चित करें।
  2. यदि आप घर पर ऑक्सीजन सिलेंडर का उपयोग कर रहे हैं, तो निर्देशों का पूरी तरह से पालन करें।
  3. यदि आप डायबिटीज के रोगी हैं, तो शुगर का लेवल के स्वास्थ्य स्तर को बनाए रखें।
  4. यदि आप स्टेरॉयड पर हैं, तो इस दवा के दीर्घकालिक प्रभाव पर अपने डॉक्टर से बात करें। पूछें कि क्या खुराक कम की जा सकती है या दवा बंद की जा सकती है।
  5. स्वस्थ पौष्टिक भोजन करें। हमेशा मास्क पहनें, हाथों, आस-पास को सेनेटाइज करें और अनावश्यक रूप से घर से बाहर न निकलें।

कैंसर रोगियों में फंगल संक्रमण से बचाव

फंगल से बचना मुश्किल है क्योंकि वे पर्यावरण का एक स्वाभाविक हिस्सा हैं। फंगस बाहर मिट्टी में, पौधों, पेड़ों और अन्य वनस्पतियों पर रहते हैं। वे कई इनडोर सतहों और आपकी त्वचा पर भी होते हैं। हालांकि, आपके लिए संक्रमण होने की संभावना को कम करने के कुछ तरीके हो सकते हैं, जिसमें एक गंभीर फंगल संक्रमण भी शामिल है।

  1. फंगल इंफेक्शन के बारे में जानिए: विभिन्न प्रकार के फंगल संक्रमण होते हैं। उनके बारे में जानने से आपको और आपके स्वास्थ्य सेवा टीम को लक्षणों को जल्दी पहचानने में मदद मिल सकती है, जिससे गंभीर बीमारी से बचा जा सकता है।
  2. व्हाइट ब्लड सेल के बारे में जानेंः व्हाइट ब्लड सेल की संख्या बहुत कम होने से आपको संक्रमण का अधिक खतरा हो सकता है।
  3. यदि आवश्यक हो तो अतिरिक्त चिकित्सा देखभाल प्राप्त करें। फंगल संक्रमण अक्सर अन्य बीमारियों के समान होता है। अपने स्वास्थ्य सेवा टीम के पास जाने से शीघ्र निदान में मदद मिल सकती है और गंभीर बीमारी को रोका जा सकता है।
  4. एंटिफंगल दवाः आपका स्वास्थ्य सेवा टीम फंगल संक्रमण को रोकने के लिए दवा दे सकती है। वैज्ञानिक अभी भी इस बारे में रिसर्च कर रहे हैं कि किन रोगियों को सबसे अधिक जोखिम है और फंगल संक्रमण को कैसे रोका जाए।
  5. दूषित पर्यावरण से खुद को बचाएंः जैसे-जैसे आप कीमोथेरेपी से ठीक हो जाते हैं और अपनी सामान्य गतिविधियों को फिर से करना शुरू कर देते हैं, पर्यावरण में रोग पैदा करने वाले कवक से बचने की कोशिश करके गंभीर फंगल संक्रमण होने की संभावना को कम कर सकते हैं।

Related Posts

Leave a Comment

Here are frequently asked questions answered on coronavirus and its impact on cancer patients हिन्दी