स्तन कैंसर : क्या रेमिशन में कैंसर वापस आ सकता है ?

by Team Onco
73 views

कई प्रकार के कैंसर ऐसे होते हैं, जिनके लक्षण उपचार के बाद वापस आ सकते हैं। यदि आपको स्तन कैंसर हुआ है, और आपका डाॅक्टर आपके स्तन कैंसर के सफलतापूर्वक इलाज के बजाय, रेमिशन शब्द का उपयोग करता है। जबकि आपके शरीर में कैंसर के कोई शेष लक्षण भी नहीं हैं। इस शब्द का उपयोग इसलिए किया जाता है क्योंकि इस बात की संभावना बनी रहती है कि स्तन कैंसर इसके इलाज के बाद वापस आ सकता है।  

रेमिशन तब होता है जब कैंसर के लक्षण कम हो गए हों या चले गए हों। यदि आपके स्तन में पहले ट्यूमर था और यह सफल उपचार की मदद से सिकुड़ गया, तो इसका मतलब है कि आप रेमिशन में हैं। 

क्या है कैंसर रेमिशन?

रेमिशन तब होता है जब कैंसर के लक्षण कम हो गए हों या चले गए हों। यदि आपके स्तन में पहले ट्यूमर था और यह सफल उपचार की मदद से सिकुड़ गया, तो इसका मतलब है कि आप रेमिशन में हैं। 

आपका डॉक्टर प्रतिक्रिया शब्द का भी उपयोग कर सकता है, जिसका अर्थ वही है। रेमिशन का मतलब यह नहीं है कि आप ठीक हो गए हैं। इसमें इलाज के बाद भी कैंसर कोशिकाएं आपके शरीर में रह सकती हैं। समय के साथ, वे फिर से बढ़ना शुरू कर सकती हैं। यदि आप रेमिशन में हैं तो डॉक्टर आपको बताएंगे। यह आपके परीक्षण के परिणामों पर आधारित होगा कि आपको कैंसर के लक्षण में कितना समय हो गया है। रेमिशन पर विचार करने के लिए एक महीने या उससे अधिक का समय चाहिए होता है।

क्या रेमिशन में कैंसर वापस आ सकता है ?

कैंसर के वापस आने को पुनरावृत्ति कहा जाता है। लेकिन अगर आप रेमिशन में हैं, तो शायद आपका स्तन कैंसर वापस नहीं आएगा। स्तन कैंसर वाले अधिकांश लोगों में कभी भी पुनरावृत्ति नहीं होती है। लेकिन यह संभव है, कभी-कभी, कैंसर कोशिकाएं उपचार के बाद भी बनी रहती हैं और बाद में कई गुना बढ़ जाती हैं। यह आपके उपचार समाप्त करने के महीनों या वर्षों बाद हो सकता है। 

पुनरावृत्ति यानी कि रेकर्रेंस के विभिन्न प्रकार हैंः

लोकल रेकर्रेंस

लोकल रेकर्रेंस में कैंसर आपके स्तन, चेस्ट वाॅल या लिम्फ नोड्स में वापस आ जाता है। यदि आपकी पहले लम्पेक्टोमी की गई थी, तो यह स्तन ऊतक में दिखाई दे सकते हैं जो अभी भी वहां है। यदि आपकी मास्टेक्टॉमी हुई है, तो यह आपकी त्वचा या चेस्ट वाॅल के ऊतकों को प्रभावित कर सकती है। यदि यह आपके लिम्फ नोड्स में वापस आ जाता है, तो डॉक्टर इसे रिजनल रेकर्रेंस कहेंगे। आमतौर पर आपके निदान के बाद पहले 5 वर्षों के भीतर होती है। 

डिस्टेंट रेकर्रेंस

डिस्टेंट रेकर्रेंस तब होता है जब स्तन कैंसर अन्य अंगों में फैल जाता है। यह आपके स्तनों और आस-पास के लिम्फ नोड्स से आगे निकल जाता है। यह आपकी हड्डियों, लिवर, फेफड़े, मस्तिष्क या अन्य अंगों में फैल सकता है। आपने डॉक्टर को मेटास्टेसिस शब्द का इस्तेमाल करते हुए सुना होगा। स्तन कैंसर के रेकर्रेंस के लिए प्रभावी उपचार हैं।

नियमित फाॅलो-अप के दौरान, आपका डाॅक्टर लक्षणों या संकेतों की जाँच करेगा कि आपका कैंसर वापस आया है या नहीं। रेकर्रेंस के जोखिम के बारे में उनसे बात करें और आप पूछें कि इसके बारे में क्या कर सकते हैं।

अधिकांश स्तन कैंसर पुनरावृत्ति के बारे में रोगियों को डॉक्टर से फाॅलो अप के दौरान पता चलता है।

रेकर्रेंस पर रखें नज़र

उपचार के बाद डाॅक्टर से नियमित फाॅलो-अप का मकसद, कैंसर की पुनरावृत्ति की जांच करना होता है, जिसका मतलब है कि यह जानना कैंसर वापस आया है या नहीं। शुरूआती स्टेज और लोकल एडवांस स्टेज ब्रेस्ट कैंसर का उपचार शरीर में अधिक से अधिक कैंसर कोशिकाओं को खत्म करने के लिए किया जाता है। हालांकि, कैंसर की पुनरावृत्ति होती है क्योंकि कैंसर कोशिकाओं के छोटे क्षेत्र जो उपचार के लिए प्रतिक्रिया नहीं करते हैं, शरीर में अनिर्धारित रह सकते हैं। समय के साथ, इन कोशिकाओं की संख्या तब तक बढ़ सकती है जब तक कि वे परीक्षण के परिणामों पर दिखाई न दें या संकेत या लक्षण पैदा न करें।

कैंसर का उपचार करा चुके कई लोग इस बात को लेकर परेशान रहते हैं कि इलाज के बाद कैंसर वापस आ जाएगा। अधिकांश स्तन कैंसर पुनरावृत्ति के बारे में रोगियों को डॉक्टर से फाॅलो अप के दौरान पता चलता है।

स्तन कैंसर स्तन या शरीर के अन्य क्षेत्रों में वापस आ सकता है। आम तौर पर, एक पुनरावृत्ति यानी कि रेकर्रेंस तब पाई जाती है जब किसी व्यक्ति में शारीरिक परीक्षण के दौरान लक्षण या असामान्य खोज होती है। स्तन कैंसर के निदान के बाद साल में एक बार मैमोग्राम की भी सिफारिश की जाती है। लक्षण इस बात पर निर्भर करते हैं कि कैंसर की पुनरावृत्ति कहाँ हुई है और इसमें शामिल हो सकते हैंः

1- बांह के नीचे या चेस्ट वाॅल के पास एक गांठ।

2- दर्द जो लगातार बढ़ रहा हो और दवा से भी असर न पड़े।

3- हड्डी, पीठ, गर्दन, या जोड़ों में दर्द, फ्रैक्चर या सूजन, जो हड्डी के मेटास्टेस के संभावित संकेत हैं।

4- सिरदर्द, चक्कर आना, भ्रम, व्यक्तित्व में परिवर्तन, संतुलन की हानि, मतली, उल्टी, या दृष्टि में परिवर्तन, जो मस्तिष्क मेटास्टेस के संभावित संकेत हैं।

5- लंबे वक्त तक खांसी, सांस लेने में तकलीफ, फेफड़ों के मेटास्टेस के संभावित लक्षण हैं।

6- पीलिया नामक स्थिति से पेट में दर्द, खुजली वाली त्वचा या दाने, या पीली त्वचा और आंखें, जो लिवर मेटास्टेस से जुड़ी हो सकती हैं।

7- ऊर्जा के स्तर में परिवर्तन, जैसे कि बीमार या अत्यधिक थकान महसूस करना।

8- कम भूख लगना या वजन कम होना।

9- स्तन के आकार में परिवर्तन, साथ ही स्तन या बांह में सूजन इसके कुछ संकेत हैं।

यदि आपका कैंसर अतिरिक्त HER2 प्रोटीन बनाता है तो दवा उपचार जो प्रोटीन HER2 को लक्षित करते हैं, आपके जोखिम को कम कर सकते हैं।

पुनरावृत्ति या रेकर्रेंस के अपने जोखिम को कैसे कम करें ?

आपके स्तन कैंसर के वापस आने की संभावना कम करने के लिए आप कुछ चीजें कर सकते हैं। कुछ उपचार और जीवनशैली विकल्पों को अपनाकर आप जोखिम को कम कर सकते हैं।

यहां ऐसे उपचार दिए गए हैं जो आपके पुनरावृत्ति के जोखिम को कम कर सकते हैंः

  1. बोन बिल्डिंग ड्रग्स आपकी हड्डियों में कैंसर के वापस आने के जोखिम को कम कर सकती हैं।
  2. शोध से पता चलता है कि जिन लोगों की कीमोथेरेपी हुई है, उनमें पुनरावृत्ति का जोखिम कम होता है।
  3. यदि आपको रिसेप्टर-पॉजिटिव स्तन कैंसर है, तो आपके प्राथमिक उपचार के बाद हार्मोन थेरेपी इसके वापस आने के जोखिम को कम कर सकती है।
  4. शोध से पता चलता है कि जिन लोगों का इन्फलामेंटी ब्रेस्ट कैंसर या बड़े ट्यूमर के इलाज के लिए रेडिएशन थेरेपी हुई हैै, उनमें कैंसर के वापस आने का जोखिम कम होता है।
  5. यदि आपका कैंसर अतिरिक्त HER2 प्रोटीन बनाता है तो दवा उपचार जो प्रोटीन HER2 को लक्षित करते हैं, आपके जोखिम को कम कर सकते हैं।

जीवन शैली के विकल्प जो पुनरावृत्ति को रोकने में मदद करते हैं उनमें शामिल हैंः

  • सब्जियां, फल और साबुत अनाज जैसे स्वस्थ भोजन का सेवन करना। 
  • सिगरेट और शराब का सेवन न करना।
  • नियमित व्यायाम करना। 
  • स्वस्थ वजन बनाए रखना। 

Related Posts

Leave a Comment

Here are frequently asked questions answered on coronavirus and its impact on cancer patients हिन्दी