क्‍या आपने लगाई COVID-19 की वैक्‍सीन ?

by Team Onco
54 views

सरकार के आदेश के बाद से ही सभी भारतीय या तो वैक्‍सीन स्लॉट प्राप्त करने की कोशिश कर रहे हैं, या वैक्‍सीन शॉट प्राप्त करने के दुष्प्रभावों के बारे में बात कर रहें हैं।  अब क्‍योंकि दुनिया भर में हर दिन अधिक से अधिक लोगों का टीकाकरण हो रहा है, विभिन्न वैक्‍सीन के साथ-साथ उनके तुलनात्मक गुणों और दोषों के बारे में बहुत सारी चर्चाएं सोशल मीडिया और सभी समाचार चैनलों पर हो रही हैं।  

कैंसर के मरीज और कैंसर से बचे लोग भी वैक्सीन ले सकते हैं

COVID-19 के खिलाफ टीकाकरण के महत्व को प्रचारित किया जा रहा है, क्योंकि वैक्‍सीन को ही इस बीमारी को बड़े पैमाने पर रोकने का एकमात्र तरीका माना जा रहा है। अभी हालात के हिसाब से यह कहा जा रहा है कि भारतीय अपनी पसंद की वैक्‍सीन का इंतजार करने बजाय, जो भी वैक्सीन उपलब्ध है, उसे लगवा लें।

वर्तमान में, भारत में आपूर्ति में दो वैक्‍सीन हैं: कोवैक्सिन और कोविशील्ड। कोवैक्सिन का निर्माण भारत बायोटेक द्वारा किया गया है, कोविशील्ड एस्ट्राजेनेका से होता है, जिसे सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा निर्मित किया गया है।

यह उम्मीद की जा रही है कि गमालय रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी से एक COVID-19 वैक्सीन, स्पुतनिक V, अगले कुछ हफ्तों में जनता के लिए उपलब्ध होगी। भारत में, डॉ रेड्डी की प्रयोगशालाएं इस टीके की आपूर्ति कर रही हैं और कुछ हफ्तों में उत्पादन शुरू कर देगी।

विशेषता कोविशील्ड कोवैक्सिन स्पुतनिक-V
वैक्सीन का प्रकार वायरल वेक्टर प्‍लैटॅफॉर्म, एक चिंपैंजी एडेनोवायरस को संशोधित किया गया है ताकि वह मनुष्यों की कोशिकाओं में COVID-19 स्पाइक प्रोटीन ले जा सके। इस टीके में कोई सक्रिय वायरस भी नहीं होता है, लेकिन यह वायरस से लड़ने के लिए शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रशिक्षित कर सकता है। निष्क्रिय वायरल वैक्‍सीन, वैक्‍सीन में कोई सक्रिय वायरस नहीं होता है जो संक्रमण का कारण बन सकता है, लेकिन यह शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को वायरस से लड़ने के लिए प्रशिक्षित कर सकता है।

 

अन्य सामान्य निष्क्रिय वायरल वैक्‍सीन जो आपने इस्तेमाल की होंगी, उनमें पोलियो और रेबीज के टीके शामिल हैं।

SARS-CoV-2 स्पाइक प्रोटीन के साथ दो एडेनोवायरस (ad26 और ad5) का संयोजन

इस वैक्‍सीन में भी कोई सक्रिय वायरस नहीं है।

डोज  0.5 ml 0.5 ml 0.5 ml
डोज के बीच समय अंतराल  

1216 सप्ताह 

4 6 सप्ताह 21 दिन (3 सप्ताह)
संभावित दुष्प्रभाव
  • इंजेक्शन की जगह पर दर्द
  • सरदर्द
  • थकान
  • बुखार
  • इंजेक्शन की जगह पर दर्द
  • बुखार
  • शरीर में दर्द
  • बांह की जकड़न
  • नींद आना

 

 

 

  • इंजेक्शन की जगह पर दर्द
  • सरदर्द
  • बुखार
  • पसीना और ठंड लगना
  • चक्‍कर औ उल्टी
  • शरीर में दर्द

COVID-19 वैक्सीन किसे नहीं लेनी चाहिए?

18 वर्ष से अधिक आयु के सभी वयस्कों को जो भी टीका उपलब्ध हो उन्हें अवश्य लेना चाहिए। यहां तक कि वे लोग जिन्हें मधुमेह, उच्च रक्तचाप या अन्य संबंधित समस्याएं हैं, वे सुरक्षित रूप से टीका ले सकते हैं।

कैंसर के मरीज और कैंसर से बचे लोग भी वैक्सीन ले सकते हैं, लेकिन वैक्सीन लेने के लिए अपने इलाज में सबसे अच्छे समय के बारे में अपने इलाज करने वाले ऑन्कोलॉजिस्ट से सलाह लेना न भूलें। कुछ कैंसर उपचार अस्थायी रूप से प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर कर सकते हैं। इलाज करने वाले ऑन्कोलॉजिस्ट इस जानकारी के आधार पर वैक्सीन लेने के लिए सबसे अच्छा समय सुझा सकते हैं।

केवल एक ही स्थिति है जब वैक्‍सीन की सिफारिश नहीं की जाती है: यदि वैक्‍सीन की पहली डोज ने गंभीर एलर्जी प्रतिक्रिया उत्पन्न की हो, तो दूसरी डोज की सिफारिश नहीं की जाती है। 

भारत में वर्तमान में उपलब्ध दो टीकों के बारे में कुछ अतिरिक्त जानकारी यहां दी गई है:

यह सुझाव दिया गया है कि कोविशील्ड कोवैक्सिन की तुलना में थोड़ा अधिक गंभीर दुष्प्रभाव पैदा करता है।

क्या वैक्सीन लेने के बाद भी मुझे COVID-19 हो सकता है?

वैक्सीन लेने के बाद भी COVID-19 से संक्रमित होना संभव है। हालांकि, वैक्सीन संक्रमण से गंभीर रूप से बीमार होने की संभावना को कम करती है। वैक्सीन इस संक्रमण से आपकी मृत्यु की संभावना को भी कम करता है। 

यह वैक्‍सीन आपके शरीर की COVID-19 के वायरस के खिलाफ प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया में सुधार करती है। ऊपर दी गई किसी भी वैक्‍सीन की दूसरी डोज लेने के दो से तीन सप्ताह के भीतर, आपके गंभीर संक्रमण या COVID-19 से मृत्यु का जोखिम काफी कम हो जाता है।

 क्या होता है यदि कोई अलग-अलग टीकों में से प्रत्येक की एक खुराक लेता है?

हालांकि ऐसा होने की खबरें आती रही हैं, लेकिन इसके क्या परिणाम होंगे, यह कोई नहीं बता सकता। कोविशील्ड और कोवैक्सिन संयोजन में टीके लेने पर क्या होगा, इस पर अभी तक कोई अध्ययन नहीं हुआ है। 

यह सलाह दी जाती है कि हम किसी भी संभावित जटिलताओं से सुरक्षित रहने के लिए एक ही टीकाकरण की दो डोज लें।  

क्या टीकों की कीमत में कोई अंतर है?

भारत सरकार ने कोविशील्ड के लिए 700 से 1000 तक, स्पुतनिक वी के लिए 1000 से ऊपर रुपये और कोवैक्सिन के लिए 1500 रुपये तक टीकों की कीमतें तय की हैं। इस कीमत में टीकों का प्रशासन करने वाले अस्पतालों के लिए करों के साथ-साथ INR 150 रुपये तक सेवा शुल्क भी शामिल है।

सरकार द्वारा संचालित संस्थानों में टीके नि:शुल्क उपलब्ध कराए जा रहे हैं।

Related Posts

Leave a Comment

Here are frequently asked questions answered on coronavirus and its impact on cancer patients हिन्दी
Bitnami