पुरुषों में होने वाले 5 सबसे आम कैंसर 

by Team Onco
842 views

पुरुषों के स्वास्थ्य पर ध्यान केंद्रित करते हुए, आज हम कुछ ऐसे कैंसर के बारे में बात करेंगे, जो अक्सर पुरुषों को प्रभावित करते हैं। कुछ कैंसर जो पुरूषों को प्रभावित करते हैं जिनमें शामिल हैं। 

  • प्रोस्टेट कैंसर
  • कोलोरेक्टल कैंसर
  • फेफड़े का कैंसर
  • त्वचा का कैंसर
  • ब्लैडर कैंसर

आज हम आपको बताएंगे कि हम इन कैंसर के बारे में कैसे पता लगा सकते हैं और किस तरह हम इसे रोकने में मदद कर सकते हैं।

पुरुषों में कई बार कैंसर का पता इस वजह से नहीं चल पाता, क्योंकि वह कैंसर के लक्षणों को सेहत से जुड़ी आम समस्याएं मानकर छोड़ देते हैं। कैंसर एक ऐसी बीमारी है, जिसका जितना जल्दी पता चल जाए उतना ही अच्छा होता है। इससे इस बीमारी का इलाज करने में ज्यादा परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता है, साथ ही इलाज के सफल होने की संभावना बढ़ जाती है। आइए जानते हैं उन कैंसर के बारे में जो खासतौर पर पुरूषों में होते हैं।

प्रोस्टेट कैंसर 65 वर्ष से अधिक उम्र के पुरुषों में होता हैं।

प्रोस्टेट कैंसर

प्रोस्टेट कैंसर

प्रोस्टेट कैंसर केवल पुरूषों को होता है, क्योंकि प्रोस्टेट ग्लैंड महिलाओं में नहीं होती है और यह उम्र के साथ बढ़ता है। अधिकांश प्रोस्टेट कैंसर 65 वर्ष से अधिक उम्र के पुरुषों में होता हैं। एक या एक से अधिक करीबी रिश्तेदारों को होने से भी पुरुष के प्रोस्टेट कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है। प्रोस्टेट कैंसर केवल पुरूषों को होता है, क्योंकि प्रोस्टेट ग्लैंड महिलाओं में नहीं होती हैप्रॉस्टेट कैंसर प्रॉस्टेट ग्रंथि, जो कि सिर्फ पुरुषों में होती है। दरअसल, प्रॉस्टेट ग्रंथि अखरोट के आकार की एक ऐसी ग्रंथि है जो पेशाब की नली के चारों ओर फैली होती है। इसका काम स्पर्म को न्युट्रिशन देना होता है। आमतौर पर प्रॉस्टेट ग्रंथि का वजन 18 ग्राम होता है, लेकिन जब इसका वजन 30 से 50 ग्राम हो जाए तो ग्रंथि में प्रॉस्टेट कैंसर विकसित होने लगता है। 

दरअसल, प्रोस्टेट कैंसर आमतौर पर बहुत ही धीमी गति से बढ़ता है। ज्यादातर रोगियों में इसका पता तब नहीं चल पाता जब जक यह पूरी तरह से विकसित न हो जाए। यही कारण है कि लोगों को इस कैंसर क प्रति ज्यादा सचेत रहने की जरूरत हैै।

प्रोस्टेट कैंसर के लक्षण

1- प्रोस्टेट कैंसर के कारण पेशाब करते समय दिक्कत होती है। आपको दर्द, तेज चुभन का अहसास हो सकता है।

2- इस कैंसर के कारण वीर्य में खून आने की समस्या हो जाती है।

3- इस कैंसर में आपको पेशाब करने के बाद भी ऐसा महसूस होता रहेगा कि आपने पेशाब पूरी तरह से नहीं किया है।

4- शरीर के किसी भाग की त्वचा में परिवर्तन भी इसके लक्षणों में शामिल है, यदि शरीर का कोई हिस्सा काला या सांवला पड़ने लगे तो इसे गंभीरता से लें।

5- यदि आपको पीठ में बिना कारण किसी वजह से दर्द रहता है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

प्रोस्टेट कैंसर की स्क्रीनिंग

प्रोस्टेट कैंसर की जांच एक ब्लड टेस्ट के जरिए की जाती है, जिसे पीएसए (PSA) परीक्षण कहा जाता है। डिजिटल रेक्टल परीक्षण स्क्रीनिंग के एक भाग के रूप में भी की जा सकती है। आपका परीक्षण कितनी बार  किया जाएगा, यह आपके पीएसए स्तर, सामान्य स्वास्थ्य, वरीयताओं और मूल्यों पर निर्भर करेगा।

कोलोरेक्टल कैंसर कोलन या मलाशय (Rectum) में शुरू होता है।

कोलोरेक्टल कैंसर

कोलोरेक्टल कैंसर

कोलोरेक्टल कैंसर एक ऐसा कैंसर है जो कोलन या मलाशय (Rectum) में शुरू होता है। कोलोरेक्टल कैंसर के जोखिम को बढ़ाने वाले कुछ कारकों में अधिक वजन या मोटापा, शारीरिक निष्क्रियता, रेड और प्रोसेस्ड मीट का अधिक सेवन, धूम्रपान, शराब का सेवन, अधिक उम्र का होना, और परिवार में पहले से कोलोरेक्टल कैंसर का इतिहास होना शामिल है। 

कोलोरेक्टल कैंसर संयुक्त राज्य अमेरिका में चौथा सबसे आम कैंसर है। हालांकि आपको इससे ज्यादा डरने की जरूरत नहीं है, इसका इलाज संभव है, यदि इसे जल्दी पकड़ लिया जाए। धूम्रपान छोड़ना, रेड मीट और शराब का सेवन सीमित करना, प्रोसेस्ड मीट (जैसे हॉट डॉग, डेली मीट, बेकन या सॉसेज) के सेवन से बचना, नियमित व्यायाम और अपने वजन को नियंत्रित करना कोलोरेक्टल कैंसर के आपके जोखिम को कम करने के सभी तरीके हैं।

कोलोरेक्टल कैंसर के लक्षण

1- आंतों की प्रक्रिया में बदलाव, जैसे दस्त, कब्ज या मल त्याग करने में परेशानी होना

2- पेट में ऐंठन की समस्या 

3- कमजोरी और थकान महसूस होना 

4- बेवजह वजन का घटना 

कोलोरेक्टल कैंसर की स्क्रीनिंग

इसमें रोगी के मल के नमूने की जांच होती है। रोगी के मलाशय और सिग्मोइड की जांच करने के लिए डॉक्टर एक सिग्मायोडोस्कोप नाम के लचीले और हल्के ट्यूब (जिसमें कैमरा लगा होता है) का प्रयोग करते हैं, जिसमें कैमरा लगा होता है । यह टेस्ट कम समय में हो जाता है और इसमें मामूली परेशानी होती है। इसके अलावा बेरियम एनीमा एक्स-रे (Barium enema X-ray), कोलोनोस्कोपी (Colonoscopy) और अल्ट्रासाउंड जैसे टेस्ट करके भी कोलोरेक्टल कैंसर का पता लगाया जा सकता है।

तंबाकू का सेवन फेफड़ों के कैंसर का प्रमुख कारण है।

फेफड़ों का कैंसर

फेफड़े का कैंसर

फेफड़े का कैंसर अक्सर हवा में रसायनों और अन्य कणों के संपर्क में आने के कारण होता है। जबकि तंबाकू का सेवन फेफड़ों के कैंसर का प्रमुख कारण है, फेफड़े के कैंसर वाले सभी लोग धूम्रपान करने वाले नहीं होते हैं। इनमें कुछ ऐसे लोग हो सकते हैं, जो पहले धूम्रपान करते हो, और कुछ वो भी हो सकते हैं, जिन्होंने कभी भी धूम्रपान का सेवन नहीं किया हो। इसको पहचानने का सबसे बेहतर तरीका है कि जब एक लंबी और बेहिसाब खांसी में बलगम के साथ-साथ खून के लक्षण दिखने लगे, तो ऐसे में फेफडों के कैंसर की संभावना काफी बढ़ जाती है। 

फेफड़ों के कैंसर के लक्षण

1- लंबे समय तक होने वाली खांसी जो वक्त के साथ बढ़ जाए।

2- खांसी में खून या जंग के रंग का बलगम (थूक या कफ)।

3- गहरी सांस लेने में सीने में दर्द महसूस होना, जो खांसते और हंसते हुए बढ़ जाए।

4- भूख में कमी।

5- थका हुआ या कमजोर महसूस करना।

फेफड़ों के कैंसर की स्क्रीनिंग

चेस्ट एक्स-रे प्रारंभिक चरण के फेफड़ों के कैंसर का पता लगाने के लिए काफी नहीं हैं। लेकिन कुछ सावधानियां बरत कर कैंसर के जोखिम को कम कर सकते हैं। यदि आप धूम्रपान नहीं करते हैं, तो कभी इसका सेवन शुरू न करें, और अन्य लोगों के धुएं में सांस लेने से बचें। यदि आपके मित्र और प्रियजन धूम्रपान करते हैं, उनके संपर्क में न आएं। लो-डोस कंप्यूटर टोमोग्राफी (कम-खुराक सीटी स्कैन) की मदद से कैंसर का पता लगाया जा सकता है।

ब्लैडर कैंसर मूत्राशय की कोशिकाओं में शुरू होता है।

ब्लैडर कैंसर

ब्लैडर कैंसर

ब्लैडर कैंसर एक सामान्य प्रकार का कैंसर है जो मूत्राशय की कोशिकाओं में शुरू होता है। मूत्राशय (ब्लैडर) आपके निचले पेट में एक खोखले पेशी अंग है जो मूत्र को संग्रहीत करता है। मूत्राशय का कैंसर सबसे अधिक बार उन कोशिकाओं (यूरोटेल कल कोशिकाओं) में शुरू होता है जो आपके मूत्राशय के अंदर होती हैं। यूरोटेलियल कोशिकाएं आपके गुर्दे और नलिकाएं (मूत्रवाहिनी) में भी पाई जाती हैं जो गुर्दे को मूत्राशय से जोड़ती हैं। यूरोटेलियल कैंसर गुर्दे और मूत्रवाहिनी में भी हो सकता है, लेकिन यह मूत्राशय में बहुत अधिक सामान्य है। 

ब्लैडर कैंसर के लक्षण

1- मूत्र में रक्त (हेमाट्यूरिया), जिसके कारण पेशाब चमकीला लाल या कोला के रंग का दिखाई दे सकता है, हालांकि कभी-कभी पेशाब सामान्य दिखाई देता है और आपको मूत्राशय का कैंसर है, इसका पता लैब टेस्ट में पता चलता है। 

2- लगातार पेशाब आना।

3- मूत्र त्याग करने में दर्द महसूस होना।

4- पीठ दर्द का महसूस होना।

5- महिलाओं के ब्रेस्ट में गांठ पड़ जाना और पीरियड्स के समय अधिक खून आना।

ब्लैडर कैंसर की स्क्रीनिंग

मूत्राशय के कैंसर के लिए कोई स्क्रीनिंग नहीं की जाती है। अपने चिकित्सक को बताएं यदि आपको किसी तरह के लक्षण महसूस होते हैं। मूत्राशय के कैंसर की जांच करने के तरीके के रूप में हेमाट्यूरिया परीक्षणों का अध्ययन किया गया है। मूत्राशय और अन्य यूरोटेल कल कैंसर के लिए स्क्रीनिंग परीक्षणों का नैदानिक परीक्षणों में अध्ययन किया जा रहा है।

फेयर स्किन यानी कि जो लोग ज्यादा गोर होते हैं, उन्हें डार्क स्किन वाले लोगों की तुलना में स्किन कैंसर होने की अधिक संभावना होती है।

स्किन कैंसर

स्किन कैंसर

आमतौर पर किसी को भी स्किन कैंसर हो सकता है, लेकिन फेयर स्किन यानी कि जो लोग ज्यादा गोर होते हैं, उन्हें डार्क स्किन वाले लोगों की तुलना में स्किन कैंसर होने की अधिक संभावना होती है। ज्यादातर बेसल सेल और स्क्वैमस सेल स्किन कैंसर सूरज की रोशनी से अल्ट्रावॉयलेट (यूवी) किरणों के साथ-साथ टैनिंग बेड्स जैसी बार-बार और असुरक्षित त्वचा के संपर्क में आने के कारण होते हैं। एक प्रकार का त्वचा कैंसर, जिसे मेलेनोमा कहा जाता है, कुछ अन्य प्रकार के त्वचा कैंसर की तुलना में कम आम है, लेकिन यह अधिक खतरनाक है क्योंकि इसके बढ़ने और फैलने की अधिक संभावना होती है।

स्किन के लक्षण कैंसर

1- इसका पहला लक्षण किसी तिल या झाई के आकार, आकार या रंग में बदलाव हो सकता है। 

2- आपको अपने चिकित्सक को आपकी त्वचा पर किसी भी घाव के बारे में बताना चाहिए जो कि ठीक नहीं हो रहा हो। 

3- त्वचा कैंसर आपके शरीर के किसी भी भाग पर हो सकता है, इनमें सिर, कान, होंठ, गर्दन, नाखूनों के नीचे, गुप्तांग आदि।

4- त्वचा का कैंसर अक्सर एक तिल, झाई या स्पॉट के रूप में दिखाई देता है। लेकिन इसके लक्षण त्वचा कैंसर के प्रकार पर निर्भर करते हैं।

5-  यदि परिवार में किसी करीबी सदस्य को पहले मेलेनोमा था, उनमें मेलेनोमा स्किन कैंसर का खतरा बढ़ जाता है।

स्किन कैंसर की स्क्रीनिंग

स्क्रीन कैंसर से बचने के लिए सबसे अच्छा तरीका है, आप हर महीने पूरी तरह से त्वचा की जांच कराएं। यह विशेष रूप से महत्वपूर्ण है यदि परिवार में मेलेनोमा का पारिवारिक इतिहास है। अपनी खोपड़ी और अपने पैरों के तलवों की जांच कराएं। अधिकांश त्वचा कैंसर के जोखिम को कम करने का सबसे महत्वपूर्ण तरीका सूरज से पराबैंगनी (यूवी) किरणों और अन्य स्रोतों के संपर्क में आने से बचना है। जब भी आप जाएं तो छाया में रहने की कोशिश करें, खासकर दिन के मध्य में। यदि आप धूप में जा रहे हैं, तो, पूरी बाजू के कपडों के साथ हैट लगाएं, सनग्लासेस लगाएं, और त्वचा पर कम से कम 30 के एसपीएफ वाली सनस्क्रीन लगाएं। यदि आपके बच्चे हैं, तो उन्हें धूप से बचाएं और उन्हें धूप में न जाने दें। अपनी त्वचा पर सभी मोल्स और धब्बों के बारे में जागरूक रहें, और स्किन डाॅक्टर से तुरंत संपर्क करें। 

Related Posts

Leave a Comment

Here are frequently asked questions answered on coronavirus and its impact on cancer patients हिन्दी