ल्यूकेमिया के लक्षण और उपचार

by Team Onco
42 views

ल्यूकेमिया एक ब्लड कैंसर है जो शरीर में व्हाइट ब्लड सेल्स की संख्या में वृद्धि के कारण बनता है। ल्यूकेमिया के लिए उपचार आपके इसके के प्रकार, आपकी उम्र और स्वास्थ्य पर निर्भर करता है। अन्य कैंसर के विपरीत, ल्यूकेमिया आम तौर पर एक मास (ट्यूमर) नहीं बनाता है जो इमेजिंग टेस्ट जैसे एक्स-रे या सीटी स्कैन में दिखाई देता है।

ल्यूकेमिया के लक्षण 

विभिन्न प्रकार के ल्यूकेमिया विभिन्न समस्याओं का कारण बन सकते हैं। जब आपको लक्षण होते हैं, तो वे शामिल हो सकते हैं:

  • कमजोरी या थकान
  • आसानी से चोट लगना या खून बहना
  • बुखार या ठंड लगना
  • संक्रमण जो गंभीर हैं या वापस आते रहते हैं
  • आपकी हड्डियों या जोड़ों में दर्द
  • सिर दर्द
  • उल्टी
  • वजन घटना
  • रात को पसीना
  • सांस लेने में कठिनाई
  • सूजी हुई लिम्फ नोड्स या आपकी तिल्ली जैसे अंग

ल्यूकेमिया का निदान

ल्यूकेमिया का निदान कैसे किया जाता है?

नियमित ब्लड कार्य के परिणाम आपकी हेल्थ टीम को सचेत कर सकते हैं कि आपको ल्यूकेमिया का तीव्र या पुराना रूप हो सकता है, जिसके लिए और टेस्ट की आवश्यकता है। यदि आपको ल्यूकेमिया के लक्षण हैं तो वे वर्कअप की सिफारिश कर सकते हैं।

डायग्नोस्टिक टेस्ट में शामिल है: 

कम्पलीट ब्लड काउंट (सीबीसी): यह ब्लड टेस्ट आपकी हेल्थ टीम को यह जानने में मदद करता है कि क्या आपके पास व्हाइट ब्लड सेल्स, रेड ब्लड सेल्स और प्लेटलेट्स के असामान्य स्तर हैं। यदि आपको ल्यूकेमिया है, तो आपको व्हाइट ब्लड सेल्स की सामान्य संख्या से अधिक होने की संभावना है।

ब्लड सेल एग्जामिनेशन: आपकी हेल्थ टीम को उन मार्करों की जांच के लिए अतिरिक्त ब्लड के नमूने ले सकता है जो, ल्यूकेमिया सेल्स या एक विशिष्ट प्रकार के ल्यूकेमिया की उपस्थिति का संकेत देते हैं। फ्लो साइटोमेट्री और पेरीफेरल ब्लड स्मीयर अतिरिक्त टेस्ट हैं जो आपका आपकी डाॅक्टर करा सकता है।

बोन मैरो बायोप्सी: यदि आपके शरीर में असामान्य व्हाइट ब्लड सेल्स काउंट है तो, आपका डाॅक्टर बायोप्सी कर सकता है। इस प्रक्रिया में, आपके बोन मैरो में एक लंबी सुई की मदद से तरल पदार्थ निकाला जाता है। इस द्रव के नमूने का ल्यूकेमिया सेल्स के लिए लैब में टेस्ट किया जाता है। बोन मैरो बायोप्सी आपके बोन मैरो में असामान्य कोशिकाओं के प्रतिशत को निर्धारित करने में मदद करती है, ल्यूकेमिया निदान की पुष्टि करती है।

इमेजिंग और अन्य टेस्ट: यदि किसी भी तरह के लक्षणों से संकेत मिलता है जैसे कि ल्यूकेमिया ने आपकी हड्डियों, अंगों या टिशू को प्रभावित किया है, तो आपका डॉक्टर छाती का एक्स-रे, सीटी स्कैन या मैग्नेटिक रेसोनेंस इमेजिंग (एमआरआई) स्कैन कराने को कह सकता है। ल्यूकेमिया सेल्स इमेजिंग पर दिखाई नहीं देती हैं।

स्पाइनल टैप: आपकी हेल्थ केयर टीम यह देखने के लिए आपके स्पाइनल से तरल पदार्थ के नमूने का टेस्ट कर सकती है कि क्या ल्यूकेमिया आपके ब्रेन और रीढ़ की हड्डी के आसपास के स्पाइन की हड्डी में तो नहीं फैल गया है।

ल्यूकेमिया का इलाज कैसे किया जाता है?

ल्यूकेमिया के लिए उपचार आपके ल्यूकेमिया के प्रकार, आपकी उम्र और समग्र स्वास्थ्य पर निर्भर करता है और यदि, ल्यूकेमिया अन्य अंगों या ऊतकों (tissue) में फैल गया है। 

कीमोथेरेपी: कीमोथेरेपी ल्यूकेमिया उपचार का सबसे आम रूप है। इसमें ल्यूकेमिया कोशिकाओं को मारने या उन्हें बादंटने से रोकने के लिए रसायनों का उपयोग करना शामिल है। उपचार के दौरान, आपको रसायन (दवा) एक गोली के रूप में, एक नस में एक इंजेक्शन या आपकी त्वचा के नीचे एक गोली के रूप में दिया जा सकता है। आमतौर पर, आपको कीमोथेरेपी दवाओं का संयोजन प्राप्त होगा। 

इम्यूनोथेरेपी: इस उपचार में ल्यूकेमिया से लड़ने के लिए आपके शरीर की रक्षा प्रणाली-आपके इम्यून सिस्टम को बढ़ावा देने के लिए कुछ दवाओं का उपयोग किया जता है। इम्यूनोथेरेपी आपके इम्यून सिस्टम को कैंसर सेल्स की पहचान करने और उनसे लड़ने के लिए और इम्यून सेल्स का उत्पादन करने में मदद करती है। 

टारेगेटेड थेरेपीः इस उपचार में ल्यूकेमिया सेल (जैसे प्रोटीन या जीन) के विशिष्ट भागों पर हमला करने के लिए डिज़ाइन की गई दवाओं का उपयोग किया है, जिसके कारण वे सामान्य ब्लड सेल्स से आगे निकल जाते हैं। टारेगेट उपचार ल्यूकेमिया सेल्स को गुणा करने से रोक सकते हैं, सेल्स की ब्लड आपूर्ति में कटौती कर सकते हैं या उन्हें सीधे मार सकते हैं। टारेगेटेड थेरेपी से सामान्य कोशिकाओं को नुकसान पहुंचने की संभावना कम होती है। टारेगेटेड थेरेपी दवाओं के उदाहरणों में मोनोक्लोनल एंटीबॉडी (monoclonal antibodies) और टाइरोसिन किनसे इन्हिबिटर्स (tyrosine kinase inhibitors) शामिल हैं। 

रेडिएशन थेरेपीः इस उपचार में ल्यूकेमिया कोशिकाओं को मारने या उन्हें बढ़ने से रोकने के लिए हाई एनर्जी बीम या एक्स-रे का उपयोग किया जाता है। उपचार के दौरान, एक मशीन से रेडिएशन को आपके शरीर के उन सटीक जगहों पर निर्देशित करते है जहां कैंसर सेल्स हैं या आपके पूरे शरीर में रेडिएशन दिया जाता है। आपके पूरे शरीर में रेडिएशन का वितरण एक हेमटोपोइएटिक सेल ट्रांसप्लांट  (hematopoietic cell transplant) से पहले हो सकता है।

बोन मैरो ट्रांसप्लांटः इस उपचार में कीमोथेरेपी और रेडिएशन थेरेपी द्वारा मारे गए कैंसरयुक्त ब्लड सेल्स को नई, हेल्दी हेमटोपोइएटिक सेल्स से बदला जाता है। आपकी मेडिकल टीम कीमो और रेडिएशन से पहले इन हेल्दी सेल्स को आपके ब्लड या बोन मैरो से निकाल सकती है, या वे किसी डोनर  से आ सकते हैं। नई हेल्दी सेल्स बंट कर, नई बोन मैरो  और ब्लड सेल्स का निर्माण करती हैं जो आपके शरीर की रेड ब्लड सेल्स, व्हाइट ब्लड सेल्स और प्लेटलेट्स बन जाती हैं।

Related Posts

Leave a Comment