कैंसर पोषण : महाराष्ट्रीयन मील प्लान

by Team Onco
75 views

कैंसर पोषण को लेकर हमेशा से ही मेडिकल प्रोफेशनल्स और रोगियों की तरफ से समान रूप से ज्यादा ध्यान आकर्षित किया जाता है। कैंसर के इलाज के दौरान स्वस्थ आहार बनाए रखना महत्वपूर्ण है।

इसका मतलब यह नहीं है कि आपको अपने इलाज के दौरान अपने मौजूदा आहार में बहुत ज्यादा बदलाव करने की जरूरत है। बहुत बार, आप पहले से ही अपने उपचार और संबंधित दुष्प्रभावों से घबराए हुए रहते हैं। ऐसे में एक नए आहार के साथ अपने आप पर और ज्यादा बोझ डालना, वो भी जिसके आप आदी नहीं हैं, वह आपके उपचार में और ज्यादा परेशानी बढ़ा सकता है।

poha can be a good breakfast option during cancer

यही कारण है कि onco.com के भारतीय व्यंजनों से भरपूर फ्री डाइट प्लान आपके लिए मददगार रहते हैं। 

इस ब्लॉग में, हम यह जानेंगे कि आप अपने कैंसर के उपचार के दौरान और बाद में बेहतर संभव पोषण प्राप्त करने के साथ-साथ महाराष्ट्रीयन आहार का पालन कैसे कर सकते हैं। हम कैंसर आहार पर कुछ अक्सर पूछे जाने वाले सवालों के जवाब भी देते हैं।

कैंसर आहार उपचार के दौरान मेरे लिए कैसे मददगार है?

कैंसर का उपचार आमतौर पर कई महीनों तक चलता है और यह काफी कठिन हो सकता है। इसका मतलब है कि आपके शरीर को उपचार का सामना करना होगा और रिकवरी की ओर बढ़ना होगा। 

  • आपका आहार यह सुनिश्चित करेगा कि आपको उपचार के दौरान आवश्यक कैलोरी और पोषण मिलता रहे, ताकि आप जल्द से जल्दी रिकवर हो सकें।
  • एक अच्छा आहार आपके उपचार के कई दुष्प्रभावों को कम करने में भी मदद करता है जैसे थकान, भूख न लगना, उल्टी, मतली, कब्ज, दस्त आदि।
  • यह उपचार के दौरान आपके वजन को प्रबंधित करने में मदद करेगा, अत्यधिक वजन घटाने या बढ़ने से रोकेगा।

कुल मिलाकर, आपका आहार सुनिश्चित करता है कि आप बिना किसी रुकावट के अपना इलाज जारी रखें और बेहतर तरीके से ठीक हो सकें।

क्या मुझे एक कस्टमाइज्ड डाइट प्लान की आवश्यकता है?

अपने आहार से अच्छा पोषण प्राप्त करने के लिए, आपको एक कस्टमाइज्ड डाइट प्लान  की आवश्यकता होगी जो आपके कैंसर के प्रकार, कैंसर की अवस्था, आयु, शरीर के वजन, डायबटीज़, हाई बीपी, किसी भी एलर्जी या भोजन की पसंद, और आपके समग्र स्वास्थ्य पर विचार करने के बाद आपको दिया जाता है। 

महाराष्ट्रीयन कैंसर मील प्लान

एक महाराष्ट्रीयन आहार में आमतौर पर कई व्यंजन होते हैं जो विभिन्न प्रकार की दाल और बीन्स जैसे प्रोटीन से भरपूर होते हैं, जो इसे कैंसर रोगियों के लिए उपयुक्त बनाते हैं। दूध और डेयरी उत्पाद जैसे पनीर और दही भी प्रोटीन के अच्छे स्रोत हो सकते हैं। 

इस व्यंजन में ज्वार, बाजरा, गेहूं और चावल जैसे साबुत अनाज कार्बाेहाइड्रेट के विभिन्न स्रोतों का एक अच्छा मिश्रण भी शामिल है। दूध और डेयरी उत्पाद जैसे पनीर और दही भी प्रोटीन के अच्छे स्रोत हो सकते हैं।

what to eat during cancer

तले हुए खाद्य पदार्थों से बचें क्योंकि वे भोजन के पोषण मूल्य को कम करते हैं। 

कैंसर रोगियों के लिए मसालेदार भोजन करना मुश्किल हो सकता है क्योंकि कई लोग इस दौरान मुंह में छाले जैसे दुष्प्रभावों से पीड़ित होते हैं। आपको अपने स्वाद के अनुसार रेसिपी में मसाले की मात्रा कम करनी होगी। 

कैंसर के उपचार के दौरान, कमरे के तापमान वाले खाद्य पदार्थों का अधिक आसानी से सेवन किया जाता है। बहुत गर्म खाना और बहुत तेज सुगंध वाले खाद्य पदार्थों से बचें क्योंकि ये मतली की समस्या को बढ़ा सकते हैं।

नीचे एक महाराष्ट्रीयन मील प्लान का महाराष्ट्रीयन मील प्लान वर्जन दिया गया है, यहां आप डाउनलोड करके और पकवान के नाम पर क्लिक करके इसकी रेसिपी भी पा सकते हैं।

मेरे डाइट प्लान में मांसाहारी व्यंजन को शामिल कैसे किया जा सकता है?

मांसाहारी खाद्य पदार्थ, विशेष रूप से अंडे और मछली और चिकन जैसे लीन मीट कैंसर के आहार के लिए बहुत अच्छे हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि ये खाद्य पदार्थ प्रोटीन से भरपूर होते हैं जो शरीर को सर्जरी और कीमोथेरेपी के बाद ताकत और मांसपेशियों को फिर से हासिल करने के लिए आवश्यक होते हैं।

वसायुक्त मछली भी ओमेगा 3 से भरपूर होती है जो एक बहुत ही महत्वपूर्ण सूक्ष्म पोषक तत्व है। आप जितना हो सके अपने आहार में वसायुक्त मछली को शामिल कर सकते हैं।

jowl is a good source of carbohydrates

याद रखें कि मांस को डीप फ्राई करने से बचें और मसाले का स्तर मध्यम और निम्न के बीच रखें। 

कैंसर के दौरान मेरी भूख में सुधार कैसे होगा ?

कैंसर के इलाज के दौरान भूख न लगना एक आम शिकायत है। यहाँ बेहतर खाने के लिए कुछ सुझाव दिए गए हैंः

  • छोटे भोजन खाने की कोशिश करें, दिन में ज्यादा बार खाएं। तीन बड़े भोजन के बजाय, पाँच भागों में भोजन करने का प्रयास करें।
  • भोजन के बीच दो घंटे का अंतराल लें, ताकि पाचन के लिए समय मिल सके।
  • घूमने-फिरने से भोजन को बेहतर तरीके से पचाने में मदद मिलती है, जिससे भूख लगती है। जितना हो सके शारीरिक रूप से सक्रिय रहने की कोशिश करें।
  • जब आप पूरा भोजन नहीं कर पा रहे हों तो फलों के रस और सूप लेने की कोशिश करें।

इसे भी पढ़ें: कैंसर रोगियों के लिए वेजिटेरियन नाॅर्थ इंडियन मील प्लान

कैंसर रोगियों के लिए साउथ इंडियन नाॅन वेज मील प्लान

कैंसर फाइटर्स के ल‍िए इंडियन मील प्‍लान

Related Posts

Leave a Comment

Click here to subscribe to our newsletter हिन्दी