एचआईवी: कैंसर के रोगियों के लिए कुछ खास जानकारी (HIV and Cancer: Important guide for patients)

by Team Onco
78 views

एचआईवी और कैंसर के बीच की कड़ी की बड़े पैमाने पर जांच की गई है। एचआईवी संक्रमण से कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली (Immune system) और सीडी4+ टी कोशिकाओं की संख्या कम हो जाती है, जो संक्रमण से लड़ने में मदद करती हैं। इससे यह संभावना अधिक हो जाती है कि एचआईवी से पीड़ित लोग कैंसर पैदा करने वाले वायरस से संक्रमित होंगे, जैसे ह्यूमन पेपिलोमावायरस और कपोसी सार्कोमा हर्पीसवायरस। संयोजन एंटीरेट्रोवायरल उपचार (सीएआरटी) के साथ उपचार, जिसका मतलब है एचआईवी संक्रमण से लड़ने और प्रतिरक्षा प्रणाली को बनाए रखने के लिए 1 से अधिक दवाओं का उपयोग करना, संक्रमण और एचआईवी से जुड़े कैंसर के जोखिम को कम करता है।

एचआईवी संक्रमण

पिछले 2 दशकों में,ART ने एचआईवी वाले लोगों को लंबे समय तक जीने में मदद की है; हालांकि, एचआईवी के बिना लोगों के समान उम्र बढ़ने पर कैंसर का खतरा बढ़ रहा है। इसका मतलब यह है कि एचआईवी के साथ जी रहे लोगों को भी अन्य प्रकार के कैंसर के विकास के अपने जोखिम के बारे में पता होना चाहिए। 

अपने कैंसर के जोखिम को कम करना (Reducing your cancer risk)

संयुक्त राज्य अमेरिका और अन्य विकसित देशों में एचआईवी के साथ रहने वाले लोगों में कैंसर सबसे अधिक पाए जाने वाले रोगों में से एक है। यह एचआईवी से पीड़ित लोगों में मृत्यु का एक प्रमुख कारण भी है। फेफड़े का कैंसर, लिवर कैंसर, हॉजकिन लिंफोमा, किडनी कैंसर, और सिर और गर्दन के कैंसर कुछ गैर-एड्स से जुड़े कैंसर हैं जो एचआईवी पॉजिटिव आबादी में अधिक आम हैं। ये कैंसर जोखिम वाले कारकों से जुड़े हैं जैसे कि धूम्रपान, एचआईवी के कारण पुरानी सूजन, और अन्य वायरस की उपस्थिति, जैसे एपस्टीन-बार वायरस, हेपेटाइटिस बी या हेपेटाइटिस सी।

कैंसर पैदा करने वाले सभी वायरस को मिटाना कठिन है। हालांकि, ऐसी चीजें हैं जो आप इनमें से कई जोखिम कारकों को बदलने और अपने कैंसर के जोखिम को कम करने के लिए कर सकते हैं।

अपनी एचआईवी की दवा लें (Take your HIV medicine)

हाई सीडी4+ टी-कोशिकाओं की संख्या को बनाए रखने से एड्स-परिभाषित कैंसर, जैसे कपोसी सरकोमा और लिम्फोमा के कुछ रूपों का खतरा कम हो सकता है।

अन्य वायरस के बारे में जानकार रहें (Be aware of other viruses)

हेपेटाइटिस वायरस और एचआईवी दोनों वाले व्यक्ति में लिवर कैंसर विकसित होने का खतरा बढ़ जाता है। अब ऐसी एंटीवायरल दवाएं हैं जो एचआईवी के साथ-साथ हेपेटाइटिस बी को नियंत्रित कर सकती हैं, और अन्य जो हेपेटाइटिस सी को ठीक कर सकती हैं। 

धूम्रपान न करें (Don’t smoke)

धूम्रपान कई फेफड़ों के कैंसर का कारण बनता है और अन्य कैंसर, जैसे कि सर्वाइकल कैंसर और सिर और गर्दन के कैंसर के जोखिम को बढ़ा सकता है। यह वातस्फीति (emphysema) , हृदय (cardiovascular disease) रोग और अन्य बीमारियों में भी योगदान देता है। फेफड़े का कैंसर एचआईवी से पीड़ित लोगों में कैंसर से होने वाली मौतों का सबसे आम कारण है, इसलिए धूम्रपान को रोकने के लिए हर संभव प्रयास किया जाना चाहिए।

स्क्रीनिंग कराएं (Get screened)

सर्वाइकल कैंसर की जांच के लिए एचआईवी से पीड़ित महिलाओं को हर साल पैप टेस्ट करवाना चाहिए। 3 सामान्य पैप टेस्ट के बाद, जीवन भर हर 3 साल में स्क्रीनिंग की जाती है। डिजिटल रेक्टल एग्जामिनेशन प्रारंभिक अवस्था में भी एनल कैंसर का पता लगाने में मदद कर सकती हैं। एनल कैंसर के लिए कोई मानक जांच कार्यक्रम नहीं है, लेकिन मस्से, दर्द या रक्तस्राव जैसे किसी भी गुदा लक्षण की तुरंत जांच और उपचार किया जाना चाहिए। हेपेटाइटिस और एचआईवी दोनों वाले लोगों को साल में दो बार लिवर का अल्ट्रासाउंड कराना चाहिए। एचआईवी के साथ रहने वाले लोगों को कोलन और स्तन कैंसर की जांच के लिए एचआईवी के बिना लोगों के समान दिशानिर्देशों का पालन करना चाहिए। 

कैंसर का इलाज 

कैंसर का इलाज (Cancer treatment)

यदि आपको एचआईवी है और कैंसर का निदान किया गया है, तो आपके विशिष्ट प्रकार के कैंसर के प्रबंधन में अनुभवी ऑन्कोलॉजिस्ट को ढूंढना महत्वपूर्ण है और जिसे एचआईवी वाले लोगों की देखभाल करने का अनुभव है। सामान्य तौर पर, एचआईवी वाले लोगों में कैंसर का इलाज एचआईवी न होने वाले लोगों के समान होना चाहिए। उदाहरण के लिए, एक हॉजकिन लिंफोमा अध्ययन में देखा गया कि जब रोगियों को, उनकी एचआईवी स्थिति की परवाह किए बिना, समान कीमोथेरेपी उपचार प्राप्त हुई, उनके समग्र जीवित रहने की दर समान थी, भले ही एचआईवी के साथ रहने वाले लोगों में कैंसर का की एडवांस स्टेज थी। 

आपकी एचआईवी देखभाल प्रदान करने वाली संक्रामक रोग टीम और कैंसर देखभाल टीम को दोनों स्थितियों के लिए सही तरह से मैनेज करने के लिए मिलकर काम करना चाहिए। आपकी इन्फेक्शस टीम कैंसर के इलाज के साथ किसी भी दवा के इंट्रेशन को रोकने के लिए एचआईवी दवा पर सलाह दे सकती है। दोनों टीमें क्लीनिकल ट्रायल का पता लगाने में आपकी मदद कर सकती हैं। 

हालांकि, कैंसर के उपचार की सुरक्षा और ART के साथ संभावित दवा इंट्रेशन के बारे में चिंताओं के कारण कई कैंसर क्लीनिकल ट्रायल एचआईवी के साथ जी रहे लोगों को बाहर कर देते हैं। ऑन्कोलॉजी कम्युनिटी के कई ग्रुप का मानना है कि  एचआईवी वाले लोगों को क्लीनिकल ट्रायल में शामिल किया जाए, जब तक कि उनके न होने का कोई स्पष्ट कारण न हो। अपने डॉक्टर से पूछें कि आपके लिए कौन से क्लीनिकल ट्रायल उपलब्ध हैं और आपको सेकेंड ओपिनियन की ज़रूरत है या नहीं।

Related Posts

Leave a Comment