कैंसर रोगियों के लिए मेंटल हेल्थ का महत्व (Mental Health of Cancer Patients)

by Team Onco
56 views

कैंसर जैसी भयावक बीमारी का अनुभव जीवन को बहुत गहराई से प्रभावित कर सकता है। कैंसर का निदान होने के बाद लोगों का जीवन के प्रति नज़रिया बदल जाता है। उपचार के दौरान और बाद में भावनात्मक तनाव, अनिश्चितता और शारीरिक दर्द, रोगी और उनके प्रियजनों के मानसिक स्वास्थ्य पर भारी पड़ सकता है। हालांकि, कैंसर केयर कम्यूनिटी अब शारीरिक उपचार के अलावा, रोगी और देखभाल करने वालों (केयरगिवर) की मानसिक स्थिति पर भी ध्यान देने को लेकर सजग हो रही है।  मेंटल हेल्थ

इंडियन जर्नल ऑफ कैंसर में प्रकाशित एक अध्ययन की मानें तो, 2001 से 2014 के बीच कैंसर के 10,421 रोगियों ने आत्महत्या की। अस्पतालों में इलाज कराने वाले तीन में से एक कैंसर रोगी की मानसिक स्वास्थ्य स्थिति सामान्य होती है और 25% तक रोगियों में डिप्रेशन के लक्षण होते हैं। हमारे देश में कैंसर को लेकर जागरूकता के बारे में आमतौर पर सर्जरी, कीमोथेरेपी जैसे उपचार विकल्पों के बारे में बातें होती है, रोगियों और देखभाल करने वालों के मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों पर शायद ही किसी का ध्यान जाता है।

एक रोगी की कैंसर के निदान के प्रति प्रतिक्रिया कई कारकों पर निर्भर करती है। जैसे कि, मरीज का व्यक्तित्व, रोगी कितना पाॅजिटिव है, शारीरिक स्थिति, आध्यात्मिकता, साथ ही पारिवारिक, सामाजिक और आस-पास का वातावरण। मानसिक प्रतिक्रिया मूड, उपचार सही तरह से लेना और किसी के सामाजिक समर्थन की गुणवत्ता को प्रभावित करती है। अध्ययनों से पता चला है कि जिन कैंसर रोगियों की मेन्टल हेल्थ का ध्यान रखा जाता है, उपचार के प्रति और फाॅलो-अप में उनमें बेहतर परिणाम प्राप्त हुए हैं।

कैंसर निदान की विपरीत प्रतिक्रिया आमतौर पर तनाव, डिप्रेशन या चिंता के रूप में सामने आती है। लक्षणों को अक्सर बीमारी से अलग करना मुश्किल हो जाता है और इसमें शामिल हैं: उदास रहना, हमेशा डरे रहना या क्रोध की भावना, हेल्पलेस महसूस करना, निराशा, या नियंत्रण से बाहर होना, आगे के निर्णय न ले पाना, दोस्तों और परिवार से दूर होना, नींद न आना, मुंह सूखना, भूख कम लगने के साथ, कम एनर्जी का स्तर जैसी कई चीजों का समाना करना पड़ता है।

जब एक कैंसर रोगी ऐसे किसी भी तरह के लक्षणों का अनुभव करते हैं तो उनकी इस समस्या के हल के लिए कई कदम उठा जा सकते हैं। सबसे पहले अपने लक्षणों के बारे में मेडिकल टीम से बात करें। वे कुछ मेंटल हेल्थ समस्याओं में मदद करने में सक्षम हो सकते हैं और आपको कोई काउंसलर या अन्य सहायता दे सकते हैं। अपने सपोर्ट सिस्टम पर वापस आए: जैसे परिवार और दोस्त। कैंसर रोगियों और सर्वाइवर के सपोर्ट ग्रुप में शामिल होने से अकेलापन दूर होगा और आराम मिलेगा। वर्तमान में जीने के तरीके खोजें और भविष्य के बारे में ज्यादा चिंता न करें। प्रार्थना और आध्यात्मिकता कुछ रोगियों के लिए काम करती है। किसी की भावनात्मक स्थिति को ट्रैक करने और लक्षणों की निगरानी के लिए जर्नल लिखें। एक्सरसाइज करने और सोशल होने से आपको डिप्रेशन और घबराहट जैसी समस्याओं से निजात मिलेगी।

केयरगिवर रोगी की भावनाओं को समझकर उनकी मदद कर सकते हैं। उनकी बात सुनें और उन्हें अपनी हर तरह की भावनाओं को व्यक्त करने के लिए कहें। मेडिकल टीम से  मेंटल हेल्थ के मुद्दों पर बात करें और सहायता सेवाओं के लिए पूछें। रोगी को शारीरिक तौर पर एक्टिव रखें और उनका साथ दें लेकिन, इस बीच उनकी हालत का भी ध्यान रखें। कुछ केयरगिवर अपना भी ख्याल रखना भूल जाते हैं। भविष्य में बर्नआउट से बचने के लिए समय निकालना और अपनी खुद की भावनात्मक स्थिति के साथ तालमेल बिठाना भी महत्वपूर्ण है। 

Related Posts

Leave a Comment