कैंसर के मरीज से कैसे करें बात, अपनाएं ये 12 टिप्स

by Team Onco
582 views

जब हमें किसी के कैंसर होने का पता चलता है, तो उस व्यक्ति के साथ-साथ हमारे लिए भी यह काफी मुश्किल की घड़ी होती है। ऐसे वक्त में यदि आपका कोई अपना इस बीमारी से ग्रस्त हो तो सामने वाले से बात करना और उसके इस वक्त को समझना काफी मुश्किल हो जाता है। जब तक आप स्वयं इस स्थिति में नहीं होते, आप संभवतः यह नहीं समझ सकते कि यह कैसा अनुभव है।

कैंसर ग्रस्त मरीज को बिना रोके अपने दिल की बात करने दें। उन्हें प्यार से रखें और उनकी बातों को कभी भी काटें नहीं।

बहुत से लोग इसे महसूस किए बिना अनुचित बातें कहते हैं। हम अक्सर अच्छा करने की कोशिश में सामने वाले को परेशान कर देते हैं, हमारा प्रयास नाकाम सा साबित हो जाता है। जब किसी को कैंसर हो तो उससे कैसे बात करनी चाहिए ?

वर्षों पहले, लोग कैंसर के बारे में फुसफुसाते हुए बात किया करते थे। आज, इसकी व्यापकता, उपचार में प्रगति और जीवित रहने की दरों में वृद्धि के बावजूद, बहुत से लोग अभी भी यह नहीं जानते हैं कि इस को आखिर कैसे संभालना है। कई बार, जब आपके किसी जानने वाले के कैंसर होने का पता चलता है तो ऐसे में आपको उससे बात करने के लिए तैयार रहना चाहिए। यदि आपके किसी दोस्त को कैंसर है, तो आप उसे या उसके समर्थन का सबसे अच्छा तरीका सोच रहे होंगे। हालांकि आप मदद करना चाहते हैं, लेकिन यह आपकी सबसे बड़ी दुविधा बन जाती है कि क्या कहना है या क्या करना है।

ऐसा नहीं है कि इसको लेकर किसी तरह के नियम बनाए गए है। लेकिन बस आप बात करते हुए मरीज को असहज न महसूस कराएं। अपने शब्दों को सरल रखें। याद रखें कि अक्सर छोटी चीजें सबसे ज्यादा मायने रखती हैं। 

कैंसर से पीड़ित मित्र से बात करते रहें

कैंसर से पीड़ित मित्र से बात करने से पहले कुछ बातों पर ध्यान देंः

उन्हें अनदेखा न करें

कुछ लोग गायब हो जाते हैं जब उन्हें पता चलता है कि उनके दोस्त या किसी करीबी को कैंसर है। यह सबसे ज्यादा गलत व्यवहार होता है,  हालांकि उस व्यक्ति से बचना काफी आसान होता है, क्योंकि आप नहीं जानते कि इस वक्त को कैसे संभालना है। ऐसे में आप उन्हें बताएं, कि “मैं आपके लिए यहां हूं,” या “मैं आपसे प्यार करता हूं, और हम इस वक्त को साथ मिलकर पार कर लेंगे। यह कहना भी ठीक है, मुझे नहीं पता कि क्या कहना है या एक नोट भेज सकते हैं जिसमें लिखा हो, मैं तुम्हारे बारे में सोच रहा हूं।” और हम बात करते रहेंगे।

फोन या नोट्स के जरिए बात करें

यह ध्यान रखें कि आपके दोस्त को आपके व्यवहार से महसूस होना चाहिए कि वह आपके लिए काफी महत्वपूर्ण हैं। उन्हें बताएं कि आपको हर तरह से उनकी परवाह है, चाहे जैसी भी परिस्थिति हो। आप लगातार उनसे फोन पर बात करते रहें, उनके स्वास्थ्य के बारे में जानें, उनकी बात को ध्यान से सुनें, उन्हें बताएं कि आप इस दौर में उनसे संपर्क में रहेंगे। उनसे फोन पर बात करने के लिए वक्त निकालें, उनके फोन या मैसेज का तुरंत रिप्लाई करें, जो उनकी देखभाल कर रहा हो उनके साथ लगातार संपर्क में रहें और उन्हें भी मदद के लिए पूछे।

किसी भी तरह की सलाह देने से पहले सोचें

इससे पहले कि आप किसी भी तरह की सलाह दें, एक बार उसके बारे में विचार कर लें। सलाह देने से पहले उनकी अनुमति जरूर लें। अनचाही सलाह अनावश्यक तनाव का कारण बन सकती है।

मिलने जाने पर क्या कहें

कैंसर के बाद व्यक्ति बहुत अकेलापन महसूस करता है। अपने दोस्त के साथ समय बिताने की कोशिश करें, आप उनके ध्यान को भटकाएं, पुरानी अच्छी बातों से उनके मन को बहलाएं। उनसे बात करें कि कैंसर ठीक होने के बाद आप क्या-क्या कर सकते हैं। मिलने जाने से पहले उन्हें फोन कर लें। ज्यादा लंबे वक्त तक उनके साथ रहने के बजाए, आप थोड़ी-थोड़ी देर के लिए मिलने जाएं, हो सकता है कि आपका दोस्त कई बार बात करने के मूड में न हो। जब उनकी घर पर देखभाल करने वाला मौजूद न हो या कहीं बाहर हो तो आप उस दौरान उन्हें वक्त दे सकते हैं।

उन्हें अच्छे से सुनें

कभी-कभी सिर्फ सुनने के लिए वहाँ होना आपके दोस्त को काफी अच्छा महसूस करा सकती हैं। कैंसर ग्रस्त मरीज को बिना रोके अपने दिल की बात करने दें। जरूरी नहीं कि आपके पास उनकी सारी बातों के जवाब हो, लेकिन आप उनकी बातों को सुन उन्हें अपना मन हल्का करने दें। कई बार ऐसा भी हो सकता है, आपका दोस्त बात न करना चाहे और बस चुप रहना पसंद करें, ऐसे में आप भी बात करके उन्हें परेशान न करें।

तुलना करने से बचें

हर किसी के कैंसर का अलग अनुभव होता है। उन अन्य लोगों की निजी चिकित्सा समस्याओं को बीच में न लाएं जिन्हें आप जानते हैं। कैंसर के बारे में  अपने दोस्त से ज्यादा बात न करें जो उसे दौर से गुजर रहा है। आक्षेप के बारे में बात करने या अनुमान लगाने से बचें। बस अपने दोस्त को वैसे रहने दे जैसा वो है।

कैंसर के अलावा अन्य विषयों पर बात करें

व्यक्ति जो पहले से ही इस बीमारी से जूझ रहा हो उसे और इस बारे में याद न दिलाएं आप उनसे उनकी रुचियों, शौक और कैंसर से संबंधित अन्य विषयों के बारे में पूछें। उपचार से गुजरने वाले लोगों को कभी-कभी बीमारी के बारे में बात करने से एक ब्रेक की आवश्यकता होती है। ऐसे में आपके पास और भी कई बातें होगी जो आप उनसे कर सकते हैं।

उनके ब्लॉग, वेब पेज, या ग्रुप ईमेल पढ़ें

कैंसर से पीड़ित कई लोग अपने अपने सफर के अनुभव के बारे में ब्लॉग लिखना पसंद करते हैं जिसे वे दोस्तों और परिवार के साथ साझा कर सकते हैं। या, एक परिवार के सदस्य एक व्यक्तिगत वेब पेज पर अपडेट पोस्ट करता है या ग्रुप ईमेल भेजता है। इन अपडेट को फाॅलो करते रहे, जब भी उनसे मिलें उन्हें बताएं कि आप उनके ब्लाॅग और अपडेटस को लगातार पढते हैं, ताकि उन्हें अपने अनुभव या जानकारी वापस दोहरानी न पड़े। ये अपडेट बातचीत शुरू करने का एक शानदार तरीका भी हैं।

अपने शब्दों के चुनाव का ध्यान रखें

इस बात का ध्यान रखें कि सामने वाला व्यक्ति काफी बुरे वक्त से गुजर रहा है, ऐसे में शब्दों का ध्यान रखें। जैसे कि आप कह सकते हैं कि “मुझे खेद है कि आपके साथ ऐसा हुआ है”, “अगर आपको कभी बात करने का मन करता है, तो मैं हमेशा सुनने के लिए तैयार हूँ”, “आप क्या करने की सोच रहे हैं, और मैं कैसे मदद कर सकता हूँ?”, “मुझे तुम्हारी फिक्र है”, “मैं तुम्हारे बारे में सोच रहा हूँ”। इस तरह के कुछ शब्दों का आप इस्तेमाल कर सकते हैं।

कुछ भी सवाल करने से पहले सावधानी बरतें

अपने प्रश्नों पर ध्यान दें और बात को शुरू करने से पहले सवालों की संख्या पर विचार करें। कैंसर ग्रस्त मरीज से अक्सर दोस्त और परिवार के सदस्य कई तरह के सवाल पूछते हैं, और यह उनके लिए थकाऊ हो सकता है।

गिफ्ट आइडिया

ऐसा कई बार हो सकता है जब आप अपने दोस्त को उपहार देना चाहते हैं। किसी भी उपहार के रूप में, अपने दोस्त की पसंद  और शौक को ध्यान में रखें। उपहार को मजेदार, दिलचस्प या हल्का रखें, यह इस बात पर निर्भर करता है कि उस पल में आपके दोस्त को सबसे ज्यादा क्या चाहिए। आप मुलायम मोजे, मजेदार टोपी या स्कार्फ, नरम वॉशक्लॉथ, तौलिया या चादर, रेशम या साटन का तकिया, पाजामा, साबुन और लोशन, एक हीटिंग पैड, मालिश की मशीन, दोस्तों की तस्वीरें, आपके मित्र के पसंदीदा संगीत या प्रकृति म्यूजिक की एक सीडी, काॅमेडी फिल्म, ऑडियो बुक, जर्नल या नोटबुक दे सकते हैं। 

पूछे कि क्या व्यावहारिक समर्थन मददगार होगा

कैंसर के उपचार के दौरान आप अपने दोस्त की कई तरह से मदद कर सकते हैं। जैसे कि पालतू जानवरों की देखभाल करना, व्यक्ति को अपॉइंटमेंट के लिए ले जाना या बच्चों को स्कूल से लाना ले जाना। आप किसी भी तरह की मदद के लिए उनसे पूछ सकते हैं। आप पूछ लें कि मुझे बताएं कि क्या आपको किसी मदद की जरूरत है।

Related Posts

Leave a Comment

Here are frequently asked questions answered on coronavirus and its impact on cancer patients हिन्दी