आपकी भूख सुधारने के लिए पौष्टिक सूप व्यंजन

by Dr Krishna Priya
492 views

 

कुछ कैंसर रोगी भूख न लगने की शिकायत करते हैं। कभी-कभी, यह कैंसर के उपचार का एक दुष्प्रभाव हो सकता है। अन्य समय यह थकान और दिनचर्या की गतिविधि में कमी की वजह से संबंधित है। चाहे कोई भी कारण हो, भूख कम लगने से पोषण और कैलोरी का कम सेवन होता है।

शारीर की पुनरावृत्ति के लिए, आपको पर्याप्त मात्रा में भोजन करना जारी रखना चाहिए। यहां तक ​​कि अगर आप पहले की तरह सामान्य मात्रा में भोजन खाने में असमर्थ हैं,  अपने तीनों वक्‍त के खाने को छोटे भागों में बांट लें, जिन्हें पूरे दिन खाया जा सके।

अगर आपको भूख कम लगती है तो आहार से सम्बंधित प्रतिबंधों को भूल जाएं। आप जो चाहते हैं वो खाएं, भले ही वह पूर्ण वसा (फुल्ल फ़ैट ) वाला भोजन हो।

अपनी भूख को सुधारने के लिए थोड़ा व्यायाम करने की कोशिश करें। थोड़ी चहल-कदमी करने से इसमें सहायता मिलती है।

जब पूर्ण भोजन करने का मन ना करे तो फलों के जूस और सूप पीने की कोशिश करें।

जब आप भूख की कमी जैसे साइड इफ़ेक्ट्स से ग्रसित होते हैं  तो सूप का सेवन आपके  पोषण को बेहतर बनाने में कारगर हो सकता है। वो खाने और पचाने में आसान होते हैं और महत्वपूर्ण पोषण के साथ तैयार किये जा सकते हैं।

आपकी भूख को बेहतर करने  के लिए यहाँ सूप बनाने के कुछ सरल नुस्खे दिए जा रहे हैं

नींबू धनिया सूप

soups for cancer patients

इस सूप को बनाने के बहुत सारे कारण हैं।

यह एक स्पष्ट सूप है और दृष्टि और गंध की इंद्रियों को भाता है।

यह विटामिन से भरपूर है, विशेष रूप से विटामिन सी जो प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए बहुत अच्छा है।

यह शरीर में आयरन को अवशोषित करने में मदद करता है।

इसमें मौजूद नींबू खाने को पचाने और शरीर को हाइड्रेट करने का काम करता है।

कैंसर के उपचार के सामान्य दुष्प्रभावों जैसे उल्टी आना, पेट खराब, गैस की समस्या और दस्त से निपटने में मदद करता है।

इसके अलावा, आप पाएंगे कि इस सूप को बनाना बहुत आसान है।

सामग्री

वनस्पति स्टॉक: ( गाजर, गोभी और बीन्स को पानी में उबाल कर इसे बनाते हैं।) 1 कप

नींबू का रस: 1 चम्मच 

प्याज: 2 बड़े चम्मच, कटा हुआ

हरी मिर्च: १, कटी हुई,

लहसुन: कटा हुआ, 1 बड़ा चम्मच

धनिया पत्ती: ¼ कप, कटा हुआ

खाना पकाने का तेल: 1 बड़ा चम्मच

नमक: स्वाद अनुसार

तरीका

एक सूप पैन में तेल गरम करें और कटी हुई मिर्च और लहसुन को तब तक हिलाएं जब तक कि लहसुन की गंध ना निकल जाए।

प्याज डालकर नरम होने तक भूनें।

सब्ज़ी स्टॉक डाल कर उबलने तक गरम करें।

आंच बंद करने से पहले इसमें धनिया पत्ती डालें और एक मिनट तक उबालें।

सेवन करने से पहले नींबू का रस और नमक जोड़ें।

यदि आप मतली और उल्टी से पीड़ित हैं, तो आप भोजन करने से डर सकते हैं, यह सोच कर  कि कहीं  उल्टी फिर से ना हो जाए। याद रखें, बिना तेज गंध वाले हल्के  भोजन से आपकी मतली कम हो सकती है।

निम्नलिखित नुस्ख़ा एक सरल शाकाहारी शोरबा के लिए है जो आपको पोषक तत्वो के सेवन को बेहतर बनाने में मदद करेगा।

सब्जी का झोल

इस सूप को लेने का कारण:

इसमें लौंग की सुगंध और स्वाद है, जो आपकी मतली को कम करेगा।

यह आपके स्वाद की कलियों को साफ करता है और आपके स्वाद के अनुभव को बेहतर बनाता है, जिससे आपको अधिक भोजन ग्रहण करने में मदद मिलती है।

यह निर्जलीकरण को कम करता है क्योंकि इस झोल में गाजर और प्याज जैसी सब्जियों का मिश्रण होता है

सामग्री

प्याज: 1, कटा हुआ

गाजर: 1, कटा हुआ

पुदीना के पत्ते: 1 चम्मच, कटा हुआ

जैतून का तेल: 1 चम्मच

लौंग: 3 नं

तेजपत्ता: 1 नं

पानी: 3 कप

नमक और काली मिर्च स्वाद अनुसार

तरीका

मध्यम आंच पर सूप पैन में जैतून का तेल गर्म करें।

इसमें लौंग डालें और इसे तेल में सुगंध छोड़ने तक रहने दें।

कटा हुआ गाजर और प्याज डालें और तब तक चलाएँ जब तक वे नरम न हो जाए।

इस पूरे मिश्रण को हिलाते रहें ताकि वे कड़ाही के तले से न चिपके।

पानी, तेजपत्ता और कटा हुआ पुदीना मिलाएँ।

30 मिनट तक धीमी आंच पर उबालें।

सेवन करने से पहले एक छलनी का उपयोग करके शोरबे को छान लें।

स्वाद के लिए नमक और काली मिर्च मिलाएं।

कीमोथेरेपी का एक और दुष्प्रभाव डायरिया है। यदि आप दस्त से पीड़ित हैं, तो कम फाइबर वाले खाद्य पदार्थों और अधिक स्पष्ट तरल पदार्थों जैसे रस और सूप का विकल्प चुनें। जब तक आप ठीक नहीं हो जाते तब तक मसालेदार, उच्च वसा और मीठे खाद्य पदार्थों और पेय से बचें।

यदि आप मांसाहारी हैं, तो दस्त से निपटने में मदद करने के लिए सूप की एक विधि नीचे है ।

soups for cancer patients

नींबू चिकन चावल का सूप

soups for cancer patients

यह सूप आपके दस्त में कैसे सुधार करेगा:

यह कम फाइबर और कम वसा वाला नुस्ख़ा है, जो दस्त को ठीक करने में सक्षम है।

यहां तक ​​कि इस सूप में इस्तेमाल होने वाली सब्जियां (जैसे गाजर) कम फाइबर वाली होती हैं।

यह प्रोटीन का एक बड़ा स्रोत है।

इसमें एक रेशमी चिकनी बनावट है जो इसको बेहतर उपभोग करने में मदद करती है।

सामग्री

गाजर: 1, छिला और कटा हुआ

सफेद या मध्यम अनाज चावल: ¼ कप

चिकन शोरबा: (लम्बे समय  के लिए पानी में चिकन उबालकर बनाना है, ताकि इसका स्वाद और पोषक तत्व पानी में ही रहे ।) 2 कप।

चिकन स्तन: पकाया और कीमा बनाया हुआ, 3 पीस

अंडे का सफ़ेद भाग: २

नींबू का रस: 3 बड़े चम्मच

नमक स्वादअनुसार

तरीका

प्रेशर कुकर में चावल और गाजर पकाएं। पानी के स्थान पर, चावल पकाने के दौरान चिकन शोरबा का उपयोग करें।

चावल के पक जाने के बाद, इसमें पकाया हुआ अथवा कीमा बनाया हुआ चिकन डालें। चिकन को समान रूप से गर्म होने तक हिलाएँ।

अंडे का सफ़ेद भाग और नींबू का रस एक साथ मिलाएं।

चावल में फेंटा हुआ मिश्रण डालें और तब तक पकाएं जब तक कि यह बिल्कुल नर्म न हो जाए।

अपनी पसंद के अनुसार नमक डालें।cancer help

Related Posts

Leave a Comment

Here are frequently asked questions answered on coronavirus and its impact on cancer patients
Bitnami